Paush Amavasya 2021: हिन्दू धर्म में जितना महत्व पूर्णिमा तिथि का है, उतना ही महत्व अमावस्या का भी है. अमावस्या को पितृ दिवस कहा गया है. इस दिन स्नान-दान का विशेष महत्व है.Also Read - Chandra Darshan in June 2021: इस दिन है चंद्र दर्शन, जानें समय और चंद्रमा को खुश करने के मंत्र

साल 2021 की पहली अमावस्या
साल 2021 की पहली अमावस्या 12 जनवरी, मंगलवार को है. ये पौष अमावस्या है. पौष माह इस दिन समाप्त होता है. अमावस्या तिथि 12 जनवरी, मंगलवार दोपहर 12:22 बजे से प्रारंभ हो जाएगी और 13 जनवरी, बुधवार सुबह 10:29 बजे पर इसका समापन होगा. Also Read - Paush Amavasya 2021 Upay In Hindi: पौष अमावस्या के दिन करें ये खास उपाय, दूर हो जाएंगी सभी समस्याएं

अमावस्या महत्व
पवित्र नदी में स्नान करने, दान-पुण्य, पितृ तर्पण किया जाता है. पुराणों के अनुसार, इस दिन गंगा-स्नान करना चाहिए. इस दिन सच्चे मन से मांगी गई हर मनोकामना पूर्ण होती है.

क्या करें इस दिन
सवेरे स्नान करें. सूर्य देव को जल अर्पित करें. लाल पुष्प व लाल चंदन डालकर अर्घ्य दें. पितरों को प्रसन्न करने के लिए इस दिन व्रत किया जाता है. पीपल के पेड़ और तुलसी के पौधे को जल अवश्य अर्पित करें.

अमावस्या के दिन शाम के समय पीपल के पेड़ के नीचे चौमुखी दीपक जलाएं. पितरों के नाम से दान करें. ऐसी मान्यता है कि इस दिन विधिवत पूजन और व्रत से पितृ प्रसन्न होते हैं और पितृ दोष कटता है. अमावस्या करने से कुंडली के दोष भी समाप्त होते हैं.