Paush Maas 2019: हिन्दू कैलेंडर के अनुसार साल के दसवें माह का नाम पौष है. हर महीने की अपनी खासियत होती है और हर महीने में किसी खास देवी-देवता की पूजा अर्चना होती है. पौष के महीने में सूर्य की उपासना की जाती है. ये महीना सूर्य देव की पूजा के लिए विशेष महत्‍व रखता है. मान्यता है कि अगर पौष के महीने में नियमित सूर्य देव की उपासना की जाए तो सालभर व्‍यक्‍ति स्‍वस्‍थ और संपन्‍न जीवन जीता है. साथ ही उसका भाग्य सूर्य की भांति चमक उठता है. इस साल पौष का महीना 13 दिसंबर से शुरु होकर अगले साल 10 जनवरी तक रहेगा.

खरमास 2019: कब लग रहा खरमास और कब होगा खत्म, इन दिनों भूलकर भी न करें ये काम

पौष माह में करें सूर्यदेव की पूजा
1. रोज़ सुबह उठकर स्‍नान के बाद तांबे के लोटे से सूर्य को अर्घ्‍य दें.
2. जल में रोली और लाल रंग के पुष्‍प जरूर डालें.
3. जल चढ़ाते समय ‘ऊं आदित्‍याय नम:’ मंत्र का जाप करें.
4. इस माह में गर्म कपड़े और अनाज का दान करें.
5. इस माह में लाल रंग के वस्‍त्रों का प्रयोग करने से भाग्‍य में वृद्धि होती है

Festivals List: यहां पढ़िए दिसंबर महीने में पड़ने वाले सभी त्यौहारों की पूरी लिस्ट

पौष माह में इन चीजों से बचें
1. इस माह में नमक का सेवन कम या ना के बराबर करना चाहिए.
2. चीनी की जगह गुड़ का सेवन करें.
3. मेवे और स्निग्‍ध चीज़ों का प्रयोग करें.
4. अजवायन, लौंग और अदरक का इस्‍तेमाल हितकारी है.
5. इस महीने में ठंडे पानी का प्रयोग बिलकुल ना करें.
6. बासी खाने से दूर रहें.

धर्म की और खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करे