Pitru Paksha 2018 date and time : पितृपक्ष के दौरान लोग अपने पूर्वजों की आत्मा की शांति के लिए तर्पण कराते हैं और उनकी आत्मा की शांति की प्रार्थना करते हैं. श्राद्ध भाद्रपद के शुक्लपक्ष की पूर्णिमा से शुरू होकर अश्विन कृष्णपक्ष अमावस्या को खत्म होता है. पितृपक्ष के आखिरी दिन यानी अमावस्या के दिन को सर्वपित्रू अमावस्या कहा जाता है. इस दिन उन सभी लोगों का पिंडदान होता है, जिनके देहांत की तिथि पता नहीं है.

Pitru Paksha shradh 2018: जानिये श्राद्ध क्या करें और क्या नहीं

पितृपक्ष के पहले दिन यानी पूर्णिमा के दिन उन लोगों का पिंडदान होता है, जिनकी मृत्यु पूर्णिमा के दिन हुई.

आज यानी सोमवार 24 सितंबर से पितृपक्ष शुरू हो रहा है. ऐसे में यह जान लीजिए कि पहले दिन पूर्णिमा के दिन किस समय में श्राद्ध करना सबसे शुभ होगा:

Pitru Paksha 2018 Date: कब से शुरू हो रहा है पितृ पक्ष, क्या होगा श्राद्ध का सही समय, जानिये

2018 श्राद्ध: पहला श्राद्ध

तिथि – पूर्णिमा, 24 सितंबर 2018, सोमवार

श्राद्ध करने का सही समय

कुतुप मुहूर्त : 11:48 से 12:36 तक

रौहिण मुहूर्त : 12:36 से 13:24 तक
अपराह्न काल : 13:24 से 15:48 तक

धर्म से जुड़ी अन्य खबरों को पढ़ने के लिए धर्म पर क्लिक करें.