Pitru Paksha 2019: पितृ पक्ष के दौरान लोग अपने पूर्वजों का तर्पण कराते हैं. ये दिन काफी महत्‍वपूर्ण माने जाते हैं. इनमें पूर्वजों की आत्मा की शांति के लिए प्रार्थना की जाती है.

Pitru Paksha 2019 Date
इस बार पितृ पक्ष 13 सितंबर, शुक्रवार से आरंभ होंगे. अंतिम श्राद्ध 28 सितंबर को होगा.

Chhath Puja 2019: जानें छठ पूजा तिथि, महत्‍व, कैसे हुई थी इस महापर्व की शुरुआत…

महत्‍व
ऐसी मान्यता है कि जो लोग पितृ पक्ष में पूर्वजों का तर्पण नहीं कराते, उन्हें पितृदोष लगता है. इससे मुक्ति पाने का सबसे आसान उपाय पितरों का श्राद्ध कराना है.

श्राद्ध करने के बाद ही पितृदोष से मुक्ति मिलती है. श्राद्ध करने से पितरों को शांति मिलती हैं. वे प्रसन्‍न रहते हैं और उनका आशीर्वाद परिवार को प्राप्‍त होता है.

किस दिन कौन सा श्राद्ध

13 सितंबर- पूर्णिमा श्राद्ध
14 सितंबर- प्रतिपदा
15 सितंबर- द्वितीया
16 सितंबर- तृतीया
17 सितंबर- चतुर्थी
18 सितंबर- पंचमी महा भरणी
19 सितंबर- षष्ठी
20 सितंबर- सप्तमी
21 सितंबर- अष्टमी
22 सितंबर- नवमी
23 सितंबर- दशमी
24 सितंबर- एकादशी
25 सितंबर- द्वादशी
26 सितंबर- त्रयोदशी, मघा श्राद्ध
27 सितंबर- चतुर्दशी श्राद्ध
28 सितंबर- पितृ विसर्जन, सर्वपितृ अमावस्या

महालय अमावस्या
पितृ पक्ष के सबसे आखिरी दिन को महालय अमावस्या के नाम से जाना जाता है. इसे सर्वपितृ अमावस्या भी कहते हैं. क्योंकि इस दिन उन सभी मृत पूर्वजों का तर्पण करवाते हैं, जिनका किसी न किसी रूप में हमारे जीवन में योगदान रहा है. इस दिन उनके प्रति आभार प्रक्रट करते हैं और उनसे अपनी गलतियों की माफी मांगते हैं. इस दिन किसी भी मृत व्यक्ति का श्राद्ध किया जा सकता है. खासतौर से वह लोग जो अपने मृत पूर्वजों की तिथि नहीं जानते, वह इस दिन तर्पण करा सकते हैं. इस बार महालय अमावस्‍या 28 सितंबर को है.