Pitru Paksha 2019: पितृपक्ष में पितरों (पूर्वजों) को मोक्ष दिलाने की कामना के साथ ‘मोक्ष नगरी’ गया आने वाले पिंडदानियों के लिए सज-धज कर तैयार है. पुरखों (पूर्वजों) को पिंडदान करने के लिए आने वाले देश-दुनिया के पिंडदानियों का अब यहां इंतजार हो रहा है. वैसे कई पिंडदानी यहां पहुंच भी गए हैं.

प्रशासन और गयापाल पंडा समाज द्वारा तीर्थनगरी गया में आने वालों के रहने की व्यवस्था की गई है. जबकि धर्मशाला, होटल, निजी आवास पिंडदानियों से भरने लगे हैं.

भगवान विष्णु की नगरी ‘मोक्ष धाम’ में पिंडदानियों को किसी प्रकार की दिक्कत नहीं हो, इसका पूरा ख्याल रखा जा रहा है. गया जिले के एक अधिकारी के मुताबिक इस वर्ष पितृपक्ष के मौके पर यहां आठ लाख से ज्यादा श्रद्घालुओं के आने की संभावना है.

Pitru Paksha 2019: जानें पितृ पक्ष के 15 दिनों में क्‍या करें क्‍या नहीं…

हिन्दू धार्मिक मान्यता के अनुसार, पितरों की आत्मा की शांति एवं मुक्ति के लिए पिंडदान अहम कर्मकांड है. मान्यता है कि पिंडदान करने से मृत आत्मा को मोक्ष की प्राप्ति हो जाती है. वैसे तो पिंडदान के लिए कई धार्मिक स्थान हैं, परंतु सबसे उपयुक्त स्थल बिहार के गया को माना जाता है.

गया के जिलाधिकारी अभिषेक सिंह ने बताया कि पितृपक्ष में लाखों लोगों को हर सुविधा मुहैया कराने के लिए प्रशासन तत्पर है.

उन्होंने बताया कि मेला में किसी भी प्रकार की परेशानी के लिए प्रशासन द्वारा एक कॉल सेंटर बनाया गया है, जिसमें हेल्पलाइन के नंबर पर परेशानी बताई जा सकती है.

इस वर्ष पितृपक्ष के मौके पर प्रशासन द्वारा स्कूलों, पंडा आवासों, धर्मशालाओं तथा निजी मकानों में श्रद्धालुओं को ठहरने की व्यवस्था की गई है.

एक अधिकारी के मुताबिक, बिहार के उपमुख्यमंत्री सुशील मोदी पितृपक्ष मेला का उद्घाटन गुरुवार को विष्णुपद मंदिर परिसर में करेंगे. उसके बाद विष्णुपद मंदिर परिसर में बने भव्य पंडाल में मंत्रोच्चारण के साथ पितृपक्ष मेला शुरू हो जाएगा.

उल्लेखनीय है कि इस मेले को राजकीय मेले का दर्जा मिला हुआ है. गयावाल पंडा समाज के गजाधर लाल पंडा कहते हैं, “पिंडवेदी कोई एक जगह नहीं है. तीर्थयात्रियों को धार्मिक कर्मकांड में दिनभर का समय लग जाता है. ऐसे में लोग पूरी तरह थक जाते हैं, और तीर्थयात्री अपने परिवार के साथ आराम की तलाश करते हैं.”

Pitru Paksha 2019: जानें पिंडदान करने की सटीक विधि, इन 5 बातों का जरूर रखें ध्‍यान…

उन्होंने कहा, “आश्विन माह के कृष्णपक्ष के पितृपक्ष पखवाड़े में विष्णुनगरी में अपने पितरों को मोक्ष दिलाने की कामना लिए देश ही नहीं, विदेशों से भी सनातन धर्मावलंबी आते हैं. इस मेले में कर्मकांड का विधि-विधान कुछ अलग-अलग है.”

उन्होंने बताया, “श्रद्धालु एक दिन, तीन दिन, सात दिन, 15 दिन और 17 दिन तक का कर्मकांड करते हैं. कर्मकांड करने आने वाले श्रद्धालु यहां रहने के लिए तीन-चार महीने पूर्व से ही इसकी व्यवस्था कर चुके होते हैं.”

गया के एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने बताया कि पूरे मेला क्षेत्र में सुरक्षा के पुख्ता प्रबंध किए गए हैं. उन्होंने बताया कि मेला की सुरक्षा में तैनाती के लिए दूसरे जिलों से भी पुलिस बल बुलाया गया है. पुलिसकर्मी रेलवे स्टेशन क्षेत्र से लेकर पिंडवेदियों तक पैनी निगाह रखेंगे.

पिंडवेदियों में प्रेतशिला, रामशिला, अक्षयवट, देवघाट, सीताकुंड, देवघाट, ब्राह्मणी घाट, पितामहेश्वर घाट काफी महत्वपूर्ण माने जाते हैं.

उल्लेखनीय है कि गया में पितृपक्ष मेला 28 सितंबर तक चलेगा.

(एजेंसी से इनपुट)