प्रदोष व्रत 2019: भगवान शिव भोले भंडारी हैं. कोई सच्‍ची श्रद्धा और प्रेमभाव से शिवलिंग पर सिर्फ एक लोटा जल भी चढ़ा दें तो वे खुश हो जाते हैं. ऐसे में अगर भगवान शिव की कोई विधिवत पूजा करें तो परिणाम और बेहतर होता है. शिव पूजा करने का दिन वैसे तो हर सोमवार का होता है लेकिन माह की त्रयोदशी तिथि के उपवास को ज्‍यादा महत्‍व दिया जाता है. जिसे सभी प्रदोष व्रत के रूप में जानते हैं. जो कि भगवान शिव और देवी पार्वती को समर्पित है. भगवान शिव और माता पार्वती को समर्पित इस व्रत को प्रत्येक महीने के कृष्ण पक्ष और शुक्ल पक्ष को रखा जाता है. मार्च माह में दो प्रदोष व्रत पड़ रहे हैं, जिसमें एक आज यानी तीन मार्च हो है, जबकि दूसरा 18 मार्च को पड़ रहा है. Also Read - Pradosh Vrat 2021 Date: इस दिन मनाया जाएगा साल का पहला प्रदोष व्रत, यहां जानें मुहूर्त, पूजा विधि और महत्व

Also Read - Pradosh Vrat 2021 List: नए साल में पड़ेंगे इतने प्रदोष व्रत, यहां देखें पूरे वर्ष की सूची

Pradosh Vrat 2019: देखें प्रदोष व्रत का पूरा कैलेंडर, जानें किस दिन की पूजा से होगी मनचाही संतान Also Read - Pradosh Vrat 2020: इस बार धनतेरस के साथ ही मनाया जाएगा प्रदोष व्रत, जानें इसका महत्‍व और पूजन विधि

प्रदोष व्रत का महत्‍व

1. रविवार के दिन प्रदोष व्रत आप रखते हैं तो सदा निरोग रहेंगे.

2. सोमवार के दिन व्रत करने से आपकी इच्छा फलित होती है.

3. मंगलवार को प्रदोष व्रत रखने से रोग से मुक्ति मिलती है और आप स्वस्थ रहते हैं.

4. बुधवार के दिन इस व्रत का पालन करने से सभी प्रकार की कामना सिद्ध होती है.

5. बृहस्पतिवार के व्रत से शत्रु का नाश होता है.

6. शुक्रवार को प्रदोष व्रत से सौभाग्य की वृद्धि होती है.

7. शनिवार को प्रदोष व्रत से पुत्र की प्राप्ति होती है.

Maha Shivratri 2019: जानें त्रिलोचन का तीन से कनेक्‍शन, इस रहस्‍य से अंजान होंगे आप

प्रदोष व्रत का शुभ मुहूर्त

3 मार्च 2019 रविवार 18:18 से 20:47

Maha Shivratri 2019: काशी विश्वनाथ, जहां बसते हैं महादेव, बारह ज्योतिर्लिंगों में से एक है यह मंदिर

पूजन के लिए सामग्री

भोले की उपासना के लिए पूजन शुरू करने से पहले तांबे का पात्र, तांबे का लोटा, दूध, अर्पित किए जाने वाले वस्त्र. चावल, अष्टगंध, दीपक, तेल, रुई, धूपबत्ती, चंदन, धतूरा, अकुआ के फूल, बिल्वपत्र, जनेऊ, फल, मिठाई, नारियल, पंचामृत, पान और दक्षिणा एकत्रित कर लें.

Maha Shivratri 2019: महाकालेश्‍वर मंदिर में हर रोज होती है भस्‍म आरती, जानिए इसका रहस्‍य

ऐसे करें व्रत

मंडप में रंगों की सहायता से रंगोली बनानी चाहिए.

पूजा करते समय साधक को कुश के आसन का इस्तेमाल करना चाहिए.

उत्तर-पूर्व की दिशा में मुंह करके भगवान शिव की पूजा-अर्चना करनी चाहिए.

‘ॐ नमः शिवाय’ मंत्र का पाठ करते हुए शिवलिंग पर दूध और जल अर्पित करना चाहिए.

व्रत के दौरान कुछ भी नहीं खाना चाहिए.

Mahashivratri 2019: कब है महाशिवरात्रि, जानिए शुभ मुहूर्त, व्रत का महत्व और पूजन विधि