Pradosh Vrat 2020 को भगवान शिव की कृपा पाने को किया जाता है. इस दिन व्रत रखने से सभी मनोकामनाएं पूर्ण होती हैं. साल 2020 का पहला प्रदोष व्रत इसी सप्‍ताह है. Also Read - Pradosh Vrat 2020: साल के आखिरी प्रदोष व्रत पर जानें शुभ मुहूर्त और पूजा विधि

Pradosh Vrat 2020 Date
प्रदोष व्रत 8 जनवरी, बुधवार को है. बुधवार को प्रदोष आने से ये व्रत बुध प्रदोष व्रत कहलाता है. बुध प्रदोष को सभी प्रकार की सफलता प्रदान करने वाला कहा गया है. Also Read - Pradosh Vrat 2020 November: प्रदोष व्रत तिथि, महत्व, व्रत कथा, पूजन विधि, शुभ मुहूर्त

Makar Sankranti 2020: मकर संक्रांति तिथि, महत्‍व, शुरू होंगे शुभ कार्य, क्‍या करें इस दिन Also Read - Pradosh Vrat 2020: इस बार धनतेरस के साथ ही मनाया जाएगा प्रदोष व्रत, जानें इसका महत्‍व और पूजन विधि

बुध प्रदोष महत्‍व
बुध प्रदोष व्रत रखने से नौकरी में मनचाही सफलता मिलती है. प्रदोष व्रत में भगवान शिव की पूजा शाम के समय सूर्यास्त से 45 मिनट पूर्व और सूर्यास्त के 45 मिनट बाद तक की जाती है. बुध प्रदोष का व्रत करने से जीवन के समस्त रोग, दोष, शोक, कलह दूर हो जाते हैं.

पूजन विधि
प्रदोष के दिन मन में ऊँ नम: शिवाय का जप करना चाहिए. प्रदोष काल में यानी सुर्यास्त से तीन घड़ी पूर्व, शाम 4:30 से 7:00 बजे के बीच पूजा की जाती है. पूजा गृह को शुद्ध करें. शिव मंदिर भी जाकर पूजा कर सकते हैं. कलश में शुद्ध जल भर लें. कुश के आसन पर बैठकर शिव जी की पूजा करें.

ऊँ नम: शिवाय कहते हुए शिव जी को जल अर्पित करें. इसके बाद दोनों हाथ जो‌ड़कर शिव जी का ध्यान करें. बुध प्रदोष की कथा सुनें या सुनाएं. कथा के बाद आरती करें. भगवान को प्रसाद चढ़ाकर सभी को दें.

धर्म की और खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें.