Pradosh Vrat 2020 पर भगवान शिव की पूजा की जाती है. भगवान शिव प्रसन्‍न होकर मनचाहा वरदान भी प्रदान करते हैं. Also Read - Pradosh Vrat 2020: साल के आखिरी प्रदोष व्रत पर जानें शुभ मुहूर्त और पूजा विधि

इस दिन भगवान की विशेष कृपा पाने को कुछ उपाय किए जाते हैं. ये ऐसे उपाय हैं जिनसे भगवान जल्‍दी प्रसन्‍न होते हैं. उनकी कृपा प्राप्‍त होती है और जीवन से हर तरह की कठिनाई दूर हो जाती है. Also Read - Pradosh Vrat 2020 November: प्रदोष व्रत तिथि, महत्व, व्रत कथा, पूजन विधि, शुभ मुहूर्त

प्रदोष पर ये उपाय करें- Also Read - Pradosh Vrat 2020: इस बार धनतेरस के साथ ही मनाया जाएगा प्रदोष व्रत, जानें इसका महत्‍व और पूजन विधि

-बुध प्रदोष के दिन भगवान शिव के साथ गणपति पूजन भी करें.

– स्नान करके साफ कपड़े पहने तथा बड़े बुजुर्गों के चरण स्पर्श करें.

– तांबे के लोटे से भगवान सूर्यनारायण को जल दें. जल में शक्कर मिलाकर अर्घ्य दें.

Makar Sankranti 2020: मकर संक्रांति तिथि, महत्‍व, शुरू होंगे शुभ कार्य, क्‍या करें इस दिन

– 27 हरी दूर्वा की पत्तियां कलावे से बांधे तथा सिंदूर लगाकर भगवान गणपति को अर्पित करें.

– भगवान गणपति को लाल फल तथा लाल मिठाई का भोग लगाएं.

– भगवान शिव को साबुत चावल की खीर का भोग लगाएं.

– ॐ नमः शिवाय या नमः शिवाय मंत्र का 108 बार जाप करें.

– भगवान गणपति और शिव की पूजा सुबह और शाम प्रदोष काल में करने से नौकरी, व्यापार में लाभ के साथ इच्छाएं पूरी होती हैं.

बुध प्रदोष महत्‍व
बुध प्रदोष व्रत रखने से नौकरी में मनचाही सफलता मिलती है. प्रदोष व्रत में भगवान शिव की पूजा शाम के समय सूर्यास्त से 45 मिनट पूर्व और सूर्यास्त के 45 मिनट बाद तक की जाती है. बुध प्रदोष का व्रत करने से जीवन के समस्त रोग, दोष, शोक, कलह दूर हो जाते हैं.

धर्म की और खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें.