Pradosh Vrat September 2019: हर माह आने वाले प्रदोष व्रत का काफी महत्‍व है. इस दिन भगवान शिव की पूजा-अर्चना की जाती है. Also Read - Pradosh Vrat 2021 Date: इस दिन रखा जाएगा मार्च का दूसरा प्रदोष व्रत, यहां जानें भगवान शिव की पूजा का शुभ मुहूर्त

Pradosh Vrat September 2019 Date
सितंबर माह में प्रदोष व्रत 26 सितंबर, गुरुवार को है. जब प्रदोष व्रत गुरुवार के दिन होता है तो उसे शत्रुओं का नाश करने वाला माना जाता है. Also Read - Aaj Ka Panchang 10 March 2021: मार्च के पहले प्रदोष व्रत पर पढ़ें आज का पंचांग, जानें राहुकाल का समय और शुभ मुहूर्त

Shardiya Navratri 2019: नवरात्रि के 9 दिन, जपें नवदुर्गा के ये नौ मंत्र, मिलेगा धन-धान्‍य-सौभाग्‍य… Also Read - In Dino Main Na Kare Lehsun-Pyaaz Ka Sevan: महीने के इन 5 दिनों में लहसुन और प्याज को कहें 'ना'

महत्‍व
प्रदोष व्रत पर पूजन, जप, दान, व्रत करने से भगवान शिव की आशीर्वाद मिलता है. जीवन की सभी परेशानियां दूर होती हैं. कहा जात है कि अगर व्‍यक्‍ति चंद्रमा के कारण परेशान है तो उसे वर्ष भर के सारे प्रदोष व्रत करने चाहिये. प्रदोष का जो व्रत गुरुवार को आता है उसे शत्रु नाशक माना जाता है. इस दिन भगवान शिव को प्रसन्‍न करने से सभी शत्रुओं का नाश होता है.

कैसे करें पूजन
– सूर्योदय से पहले उठें और व्रत रखने का संकल्‍प लें.
– मन में भगवान शिव का नाम जपें.
– व्रत रखें. संभव हो तो साफ और सफेद रंग के कपड़े पहनें.

Shardiya Navratri 2019: हाथी पर मां दुर्गा का आगमन, घोड़े पर होगी विदाई, 10 दिन तक चलेगा महापर्व…

– घर के मंदिर को साफ पानी या गंगा जल से शुद्ध करें. फिर भगवान शिव का पूजन करें.
– उतर-पूर्व दिशा की ओर मुख करके बैठे और शिव जी की पूजा करें.
– पूजा में ‘ऊँ नम: शिवाय’ का जाप करें और जल चढ़ाएं.

शुभ मुहूर्त
प्रदोष व्रत (कृष्‍ण) इस बार 26 सितंबर, गुरुवार को है. पूजन का शुभ मुहूर्त शाम 6:28 बजे से रात 8:53 बजे तक का है.

धर्म से जुड़ी अन्य खबरें पढ़ने के लिए धर्म पर क्लिक करें.