Radha Ashtami 2018 LIVE STREAMING: कहते हैं राधा के ब‍िना श्रीकृष्‍ण अधूरे हैं और श्रीकृष्‍ण के बगैर राधा नहीं हैं. पुराणों में दोनों को एक ही माना गया है. ऐसी मान्‍यता है क‍ि भक्‍त जब श्री राधे का नाम लेते हैं तो श्रीकृष्‍ण अपनी कृपा अपने आप कर देते हैं और श्रीराधा तभी प्रसन्‍न होती हैं जब उनके कृष्‍ण की भक्‍त‍ि कोई पूरे भक्‍त‍िभाव से करें. इसलि‍ए ज‍िस तरह श्रीकृष्‍ण जन्‍माष्‍टमी को पूरे हर्षोल्‍लास के साथ मनाया जाता है, ठीक उसी प्रकार राधाष्‍टमी का पर्व भी पूरे उत्‍साह के साथ मनाया जाता है. Also Read - Radha Ashtami 2019: राधा अष्‍टमी पर पूजा का शुभ मुहूर्त, पढ़ें कृष्‍णप्रिया राधा रानी की आरती...

Also Read - Radha Ashtami 2019: राधा अष्‍टमी तिथि, महत्‍व, व्रत रखने से कभी नहीं होती धन की कमी...

Radha Ashtami 2018 in Braj and Barsana: जानें कैसे मनाई जाती है ब्रज और बरसाना में राधाष्‍टमी Also Read - Radha Ashtami 2018: श्रीकृष्ण की प्यारी राधा रानी की इन नामों से भी की जाती है पूजा

खासतौर से मथुरा, वृंदावन, ब्रज और बरसाना में इस द‍िन राधाष्‍टमी की खास तैयार‍ियां होती हैं. हर तरफ श्री राधे की गूंज होती है. मंद‍िरों को दुल्‍हन की तरह सजाया जाता है. इस नजारे को देखने के लि‍ए लोग ना केवल देश के कोने-कोने से बरसाना आते हैं, बल्‍क‍ि व‍िदेशों से भी कृष्‍ण और राधा के भक्‍त इस समारोह में शाम‍िल होने के लि‍ए राधा कृष्‍ण की नगरी आ ही जाते हैं.

अगर आप इस राधाष्‍टमी पर वहां नहीं जा पा रहे हैं तो आप Radha Ashtami 2018 LIVE STREAMING के जर‍िये भी इस बड़े पर्व का आनंद उठा सकते हैं. यूट्यूब के कई ऐसे चैनल हैं जो राधाष्‍टमी के पल-पल की लाइव स्‍ट्री‍मिंग कर रहे हैं.

Radha Ashtami 2018 Date and Time: राधा अष्‍टमी पूजन का शुभ मुहूर्त, व‍िध‍ि और महत्‍व, जान‍िये

ये स्‍ट्रीमिंग आज से शुरू हो गई है. तो आप नीचे दिए गए वीडियो के लिंक पर क्लिकर करें इसे देख सकते हैं. बरसाना से लाइव स्ट्रीमिंग यहां देखें.

अगर आप द‍िल्‍ली के इस्‍कॉन मंद‍िर की लाइव स्‍ट्रीम‍िंंग देखना चाहते हैं तो यहां देख सकते हैं.

बरसाना में राधा अष्टमी के जश्न की धूम, देश-विदेश से पहुंचे अनुयायी

ऐसी मान्‍यता है क‍ि जो व्‍यक्‍त‍ि श्री राधा की अराधना नहीं करता, उस पर भगवान श्रीकृष्‍ण की कृपा भी नहीं होती. बरसाना में स्थित लाड़िली जू मंदिर में इस बार राधाष्‍टमी के लि‍ए कुछ खास व्‍यवस्‍था की गई है. राधाष्‍टमी की पूर्व संध्या से लेकर 17 सितम्बर को दोपहर तक राधाकृष्ण स्वर्ण जड़ित शीश महल में रखा जाएगा. राधा और श्रीकृष्ण को बेशकीमती पोशाक और रत्न जड़ित सोने के आभूषण पहनाए जाएंगे. श्रीराधा और श्रीकृष्‍ण के श्रृंगार की समाग्री की कीमत लगभग 40 लाख रुपये है. सायंकाल राधारानी की शोभायात्रा मंदिर परिसर में निकाली जाएगी. इस बार बरसाना में बड़े एलईडी स्क्रीनों के माध्यम से राधारानी के जन्म के दर्शन कराए जाएंगे.

धर्म और आस्‍था से जुड़ी खबरों को पढ़ने के ल‍िए यहां क्‍ल‍िक करें.