जम्मू के प्रसिद्ध रघुनाथ मंदिर का फिर से कायाकल्प होगा. सरकार ने इसकी तैयारियां कर ली हैं. मंदिर के नवीनीकरण का काम राज्य पर्यटन विभाग को सौंपा गया है. मंदिर के साथ-साथ झेलम नदी के घाटों का भी सौंदर्यीकरण किया जाएगा.

इस मंदिर के प्रति दुनिया भर के हिंदुओं की श्रद्धा है. ये विश्वप्रसिद्ध अब अपनी पुरानी शोभा को वापस पाएगा.

गौरतलब है कि करीब तीन दशक पहले बड़ी संख्या में हिंदू परिवारों ने कश्मीर से पलायन कर लिया था. 1990 के दशक की शुरुआत में, आतंकवादियों ने शुरू में एक स्कूल जला दिया था जो मंदिर के परिसर में स्थित था. इससे मंदिर की धर्मशाला भी आग की चपेट में आ गई थी.

वर्ष 2002 में भी इस मंदिर ने मार्च और नवंबर के महीनों में दो आतंकवादी हमले देखे थे. आतंकवादियों ने ग्रेनेड फेंके और अंधाधुंध गोलीबारी की जिससे 20 श्रद्धालु मारे गए और 40 से अधिक घायल हो गए.

रघुनाथ मंदिर
रघुनाथ मंदिर भगवान राम को समर्पित है. यह घाटी के सबसे प्रसिद्ध मंदिरों में से एक है. मंदिर का निर्माण महाराजा गुलाब सिंह ने करवाया था जो जम्मू राज्य के संस्थापक थे.

लोगों ने किया फैसले का स्वागत
मंदिर के नवीनीकरण के फैसले से कश्मीर के हिंदू और मुसलमान दोनों समुदाय खुश हैं. पहले यहां के मुस्लिम और हिंदू हर त्योहार मिल जुलकर मनाते थे. इन लोगों का कहना है कि इतिहास दोहराया जा रहा है, हम ईद और दीवाली एक साथ मनाएंगे जैसा कि 3 दशक पहले मनाते थे.