Ramadan 2018: साल का सबसे पाक महीना रमजान का महीना बस शुरू ही होने वाला है. सऊदी अरब, संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) और अन्य खाड़ी देशों में 16 मई को रमजान का महीना शुरू हो रहा है. भारत में रमजान का महीना 17 मई से शुरू होने वाला है. इस पाक महीने में दुनियाभर के मुस्लिम व्रत यानी रोजा रखते हैं और नमाज अता करते हैं. रमजान के महीने में मुस्लिम समाज के लोग 29 से 30 दिनों तक रोजा रखते हैं. सुबह सूर्य उगने से पहले सहरी खाते हैं और सूर्य ढलने के बाद इफ्तार खाते हैं. इस बीच वह ना तो कुछ खा सकते हैं और ना ही कुछ पी सकते हैं. दिन का पहला आहार लेने के बाद सुबह-सुबह नमाज पढ़ी जाती है.

रमजान के महीने में क्यों किया जाता है व्रत

कुरान में ऐसा कहा गया है कि तकवा बहुत जरूरी है. कुरान में इस शब्द को 251 बार परिभाषित किया गया है. तकवा का अर्थ होता है अल्लाह का डर. इसका एक और अर्थ होता है इंसान को बुराइयों की घाटी से निकालकर भलाइयों के रास्ते की तरफ ले जाने वाला एक कुरआनी नुस्खा. इंसान को हैवानी सिफात से निकाल कर रहमानी सिफात व रब्बानी अखलाक से संवारने वाला एक पाकीजा अमल. रमजान के पवित्र महीने के इन 30 दिनों के दौरान यही होता है. लोग अपनी लालच पर नियंत्रण करते हैं और अपनी आत्मा को शुद्ध करते हैं, ताकि अल्लाह सालभर की गई सारी गलतियों को माफ कर दें.यह भी मान्यता है कि इससे स्वर्ग के दरवाजे खुल जाते हैं.

रमदान कहा या रमजान के महरने में व्यक्ति के दिमाग, शरीर और आत्मा का शुद्धिकरण होता है. अल्लाह के करीब आने का यह पहला कदम है.

जानें कौन रख सकता है रोजा और कौन नहीं:-

-जो शारीरिक रूप से स्वस्थ हों.
– अगर यात्रा पर हैं और अस्वस्थ हैं तो रोजा नहीं रख सकते.
– माहवारी में महिलाएं रोजा नहीं रख सकतीं. लेकिन बाद में उन्हें उतने दिन पूरे करने होंगे.
– बुजुर्ग और अस्वस्थ लोग व्रत नहीं रख सकते, लेकिन फिदिया जरूर करें.
– गर्भवती महिलाएं और नई-नई मां बनने वाली महिलाएं, जो बच्चे को दूध पिलाती हैं, वह व्रत नहीं रख सकतीं.

Ramadan 2018 Calendar Timetable: मुंबई, दिल्ली समेत अन्य शहरों में क्या होगी सहरी और इफ्तार की Timing, जानें यहां

रमजान के महीने में ये काम वर्जित होते हैं:-

– शारीरिक संबंध नहीं बना सकते.
– धूम्रपान और शराब का सेवन नहीं कर सकते.
– दूसरों की बुराई नहीं कर सकते.
– भगवान, ईमाम या पैगंबर का नाम लेकर झूठ नहीं बोल सकते.
– गले के अंदर धूल मिट्टी नहीं जानी चाहिए.
– पानी में पूरे सिर को डुुुबाना वर्जित होता है.
– जानबूझ कर उल्टी करना वर्जित होता है.