1 जनवरी 2019 को सफला एकादशी है. पौष कृष्ण एकादशी को ये व्रत किया जाता है. नए साल की शुरुआत में ही इस व्रत से स्‍वास्‍थ्‍य और लंबी आयु का वरदान पाया जा सकता है. इस दिन श्रीहरि की पूजा का विशेष महत्‍व है.

व्रत कथा
चम्पावती नगर का राजा महिष्मत था. उसके पांच पुत्र थे. महिष्मत का बड़ा बेटा लुम्भक हमेशा बुरे कामों में लगा रहता था. उसकी इस प्रकार की हरकतें देख महिष्मत ने उसे अपने राज्य से बाहर निकाल दिया. लुम्भक वन में चला गया और चोरी करने लगा.

Rashifal 2019: कैसा रहेगा साल 2019, राशि अनुसार जानें किसे मिलेगी तरक्‍की, क्‍या करें-क्‍या नहीं…

Ekadashi

एक दिन जब वह रात में चोरी करने के लिए नगर में आया तो सिपाहियों ने उसे पकड़ लिया किन्तु जब उसने अपने को राजा महिष्मत का पुत्र बतलाया तो सिपाहियों ने उसे छोड़ दिया. फिर वह वन में लौट आया और वृक्षों के फल खाकर जीवन निर्वाह करने लगा. वह एक पुराने पीपल के वृक्ष के नीचे रहता था. एक बार अंजाने में ही उसने पौष मास के कृष्ण पक्ष की एकादशी का व्रत कर लिया. उसने पौष मास में कृष्णपक्ष की दशमी के दिन वृक्षों के फल खाये और वस्त्रहीन होने के कारण रातभर जाड़े का कष्ट भोगा.

सूर्योदय होने पर भी उसको होश नहीं आया. एकादशी के दिन भी लुम्भक बेहोश पड़ा रहा. दोपहर होने पर उसे होश आया. उठकर वह वन में गया और बहुत से फल लेकर जब तक विश्राम स्थल पर लौटा, तब तक सूर्य अस्त हो चुका था. तब उसने पीपल के वृक्ष की जड़ में बहुत से फल निवेदन करते हुए कहा- इन फलों से लक्ष्मीपति भगवान विष्णु संतुष्ट हों. ऐसा कहकर लुम्भक रातभर सोया नहीं. इस प्रकार अनायास ही उसने सफला एकादशी व्रत का पालन कर लिया.

Solar and Lunar Eclipses 2019: नए साल में लगेंगे 5 ग्रहण, जानें तिथि-समय, साल के पहले हफ्ते में पहला ग्रहण…

उसी समय आकाशवाणी हुई -राजकुमार लुम्भक! सफला एकादशी व्रत के प्रभाव से तुम राज्य और पुत्र प्राप्त करोगे. आकाशवाणी के बाद लुम्भक का रूप दिव्य हो गया. तबसे उसकी उत्तम बुद्धि भगवान विष्णु के भजन में लग गयी. उसने पंद्रह वर्षों तक सफलतापूर्वक राज्य का संचालन किया. उसको मनोज्ञ नामक पुत्र उत्पन्न हुआ. जब वह बड़ा हुआ तो लुम्भक ने राज्य अपने पुत्र को सौंप दिया और वह स्वयं भगवान श्रीकृष्ण की भक्ति में रम गया. अंत में सफला एकादशी के व्रत के प्रभाव से उसने विष्णुलोक को प्राप्त किया.

ऐसे करें उपासना
सुबह नहाकर श्रीहरि का ध्‍यान करें. श्रीहरि को पंचामृत, फूल, फल अर्पित करें. इस दिन उपवास रखने की भी परंपरा है. उत्‍तम स्‍वास्‍थ्‍य के लिए 108 बार ‘ॐ नमो भगवते वासुदेवाय’ का जाप करें. कहा जाता है कि पूजन के समय चढ़ाए गए फल को प्रसाद रूप में ग्रहण करने से रोगी ठीक हो जाता है.

धर्म की और खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें.