Sakat chauth 2021 Don’t Do These Things: इस साल सकट चौथ का व्रत 31 जनवरी को रखा जाएगा. इसे तिलकुट चौथ, संकटा चौथ, माघ चतुर्थी, संकष्टि चतुर्थी नाम से भी जाना जाता है. सकट चौथ भगवान गणेश को समर्पित होता है. सकट चौथ का व्रत महिलाएं अपनी संताम के लिए रखती हैं. इस दिन भगवान गणेशजी के साथ-साथ भगवान शिव, माता पार्वती, कार्तिकेय, नंदी एवं चंद्रदेव की पूजा का विधान है. ऐसे में अगर आप भी सकट चौथ (Sakat chauth Rules)का व्रत रख रही हैं तो हम आपको कुछ नियमों के बारे में बताने जा रहे हैं. आइए जानते हैं उनके बारे में-Also Read - Varad Chaturthi 2022: जानें कब मनाई जाएगी वरद चतुर्थी, इस दिन करें गणेश स्तुति का पाठ, पूरी होगी हर ख्वाहिश

तुलसी- सकट चौथ के दिन भूलकर भी तुलसी को भगवान गणेश को ना चढ़ाएं. इससे भगवान गणेश नाराज हो सकते हैं. पूजा के दौरान व्रती महिलाएं गणेश भगवान को दुर्वा चढ़ाएं. Also Read - Budhwar ke Upay: बुधवार के दिन जरूर करें ये उपाय, मिलेगा भगवान गणेश जी का आशीर्वाद

कंद मूल का सेवन ना करें- शास्त्रों के अनुसार इस दिन जमीन के अंदर उगने वाले कंद मूल का सेवन नहीं करना चाहिए. यही वजह है कि इस दिन मूली, प्याज,चुकंदर और गाजर खाना मना होता है. Also Read - शाहरुख खान ने भी गर्मजोशी से दी गणपति बप्पा को विदाई, लोगों ने ये बोलकर कर दिया ट्रोल

शरीर पर ना पड़े पानी की छींटे- भगवान गणेश की पूजा के दौरान जब आप अर्घ्य दे रहे हो तो इस बात का खास ध्यान रखें कि अर्घ्य के जल के छींटे आपके पैर अथवा शरीर पर बिलकुल ना पड़ें.

चांद देखें बिना ना तोड़ें व्रत- सकट चौथ के दिन चंद्रमा को अर्घ्य देने पर ही व्रत पूर्ण माना जाता है. इसलिए चंद्रमा को अर्घ्य दिए बिना आप व्रत को ना तोड़ें.

काले रंग के कपड़े ना पहनें- चतुर्थी के दिन या पूजा के दौरान आप काले वस्त्र धारण ना करें. इस दिन पूजा के दौरान आप पीले या सफेद वस्त्र धारण कर सकते हैं.