सावन चल रहा है. इस महीने में भगवान शिव की पूजा का विशेष विधान है. कहा जाता है कि इस माह शिव पूजा का फल दोगुना होकर मिलता है. Also Read - Hartalika Teej 2020: माता पार्वती ने भगवान शिव के लिए रखा था तीज का व्रत, ऐसे मिला था अखंड सुहाग का वरदान, जानें इसकी कथा

Also Read - अगर आप भी हर सोमवार करते हैं भगवान शिव की पूजा, तो इन बातों का रखें खास ध्यान

पर क्‍या आप जानते हैं कि कुछ चीजें ऐसी हैं जिनका प्रयोग शिव पूजा में भूलकर भी नहीं करना चाहिए. Also Read - श्वेता सिंह कीर्ति ने दिखाया भगवान शंकर का रौद्र रूप, न्याय तो अब मिलकर रहेगा?

– तुलसी का पत्‍ता शुद्ध माना गया है. पर ये भगवान शिव को नहीं भगवान विष्‍णु को चढ़ाया जाता है. इसलिए शिव को तुलसी का पत्ता नहीं चढ़ाना चाहिए. दूध या पानी में डालकर भी नहीं.

Nag Panchami 2019: 125 साल बाद सावन सोमवार पर नाग पंचमी, जानें तिथि, महत्‍व, किस मंत्र का करें जाप…

– भगवान शंकर को नारियल नहीं चढ़ाना चाहिए. नारियल आमतौर पर भगवान विष्णु और मां लक्ष्मी को चढ़ाया जाता है, भगवान शंकर को नहीं. उनकी पूजा की थाली में भी नारियल नहीं रखा जाता.

– शिवलिंग या शिव की मूर्ति पर कुमकुम का टीका कभी ना लगाएं. इसकी जगह चंदन या भस्म लगानी चाहिए. चूंकि कुमकुम लगाना ही है तो मां पार्वती को लगा सकते हैं.

– भगवान शिव को हल्दी नहीं चढ़ाई जाती. इसकी वजह ये है कि उन्‍हें बैरागी माना जाता है. आप उन्‍हें सफेद या लाल चंदन चढ़ाना सकते हैं.

– भगवान शिव को धतूरा के फूल चढ़ाए जाते हैं. अन्‍य फूल भी चढ़ा सकते हैं पर केतकी के फूल नहीं चढ़ाए जाते.

सावन के सोमवार

इस बार सावन में 4 सोमवार आएंगे. पहला सोमवार 22 जुलाई 2019 को जा चुका है. दूसरा 29 जुलाई को और तीसरा सोमवार 5 अगस्त को है. इसी बीच 31 जुलाई 2019 को हरियाली अमावस्या भी है. चौथा और सावन का आखिरी सोमवार 12 अगस्त को है. 15 अगस्त को सावन का आखिरी दिन है.