Shani Amavasya 2019: वैशाख कृष्ण अमावस्या इस बार शनिवार चार मई को पड़ रही है. चूंकि यह अमावस्या शनिवार को है, इस कारण इसे शनि अमावस्‍या कहा जाता है. शनिदेव को न्याय और कर्म का देवता कहा जाता है. इसलिए अगर शनि के प्रकोप से बचना है तो सतकर्मों के मार्ग पर चलना चाहिए. क्योंकि कई बार जानें अनजाने की गई गलतियों के चलते भी शनि दोष लग जाता है. इसीलिए सावधान रहें और अच्छे कार्य करें.

शनि अमावस्या का महत्व
अमावस्‍या का खास महत्‍व है और यदि यह शनिवार को है तो इसका महत्‍व और भी बढ़ जाता है. इस दिन किए गए उपाय से आपकी नौकरी संबंधित परेशानी दूर हो सकती है. अगर लंबे समय से आपको नौकरी नहीं मिल रही है और आप काफी परेशान हैं, तो आपके पास सुनहरा मौका है. शनि अमावस्‍या के दिन कुछ खास उपाय किए जाएं तो शनि देव प्रसन्‍न होकर नौकरी का वरदान दे सकते हैं.

Vrat in May 2019: अक्षय तृतीया समेत ये व्रत-त्‍योहार हैं मई में, देखें पूरी List

शनि अमावस्या के दिन करें ये काम
शनिवार शाम के समय पीपल के पेड़ के नीचे सरसों के तेल का दीपक जलाएं. इसके बाद ‘ॐ शं शनैश्चराय नमः’ का जाप करें. एक काला धागा पीपल वृक्ष की डाल में बांध दें. इसमें तीन गांठ लगाएं. ऐसा करने से नौकरी संबंधित परेशानी दूर हो जाएगी.

Ekadashi 2019: देखें एकादशी कैलेंडर, किस महीने किस तारीख को रखा जाएगा कौन सा व्रत…

पीपल के पेड़ की पूजा
शनिदेव को प्रसन्न करने के लिए पीपल के पेड़ को सबसे फलदायी माना जाता है. कहते हैं पीपल के पेड़ पर सभी देवताओं का वास होता है. शनि के प्रकोप से बचने के लिए शनिवार के दिन पीपल के पेड़ के नीचे काली बाती बनाकर सरसों के तेल का दीपक जलाएं, पीपल के पेड़ की जड़ों में जल दें और काली चींटियों को गुड़ दें. ऐसा करने से शनि दोष से छुटकारा मिलता है.

शमी वृक्ष की पूजा
शमी के पेड़ को शनि देव का प्रिय वृक्ष कहा जाता है. शमी के पेड़ का पूजन करने से भी शनि दोष से छुटकारा मिलता है. दोष दूर करने के लिए शनिवार के दिन संध्या के समय शमी के पेड़ के पास दीपक जलाएं. और शनि देव का ध्यान करें. जब तक परेशानियां खत्म न हो जाए ऐसा हर शनिवार करते रहें. जल्द ही समस्याएं खत्म हो जाएंगी.

अक्षय तृतीया 2019: कब है अक्षय तृतीया, जानिए शुभ मुहूर्त और पूजन विधि

सरसों के तेल का उपाय
शनि दोष के कारण आने वाली परेशानियों से छुटकारा पाने के लिए तांबे के बर्तन में सरसों का तेल डालकर उसमे पहले अपना चेहरा देखें. उसके बाद किसी निर्धन व्यक्ति को दान कर दें. ऐसा करने से शनि प्रसन्न होंगे.

हनुमान जी की पूजा
भगवान हनुमान को शनिदेव का परममित्र कहा जाता है. कहते हैं, शनि कभी भी हनुमान भक्त पर अपनी कुदृष्टि नहीं डालते. शनि दोष से छुटकारा पाने के लिए शनिवार के दिन हनुमान जी की पूजा करने से भी लाभ मिलता है. इस दिन हनुमान चालीसा का पाठ करने से भी शनि प्रसन्न होते हैं.

Akshaya Tritiya 2019: अक्षय तृतीया पर खरीदें सोना, जानिए खरीदारी का शुभ मुहूर्त

गऊ माता की पूजा
शनि शांति के लिए शनिवार के दिन काली गाय की सेवा करें. गाय को चारा खिलाएं, रोटी खिलाएं, मस्तक पर सिंदूर लगाएं, पूजा करें. ये सब करने से शनि पीड़ा से मुक्ति मिलेगी.

अमावस्या का उपाय
शनिदेव को प्रसन्न करने के लिए अमावस्या की रात को 8 बादाम और 8 काजल की डिब्बी एक काले कपडे में बांधकर मंदिर के पास किसी संदूक में रख दें. ऐसा करने से शनि की ढैय्या और साढ़ेसाती का प्रभाव कम होता है.

शनि अमावस्या का पूजन
शनि दोष के मुक्ति पाने के लिए शनि अमावस्या के दिन पीपल के पेड़ की खास पूजा करें. इस दिन पीपल के पेड़ पर सात प्रकार के अनाज अर्पित करें और पूजन के बाद गरीबों में बाँट दें. ऐसा करने से शनि प्रसन्न होंगे.

धर्म की और खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें.