Shardiya Navratri2019 का आरंभ 29 सितंबर, रविवार से हो रहा है. इस दिन से अगले नौ दिनों तक मां दुर्गा की पूजा का विधान बताया गया है. Also Read - Navratri 2020: शीघ्र विवाह और धन प्राप्ति के लिए माता दुर्गा की पान के पत्तों से करें पूजा, मनोकामनाएं होंगी पूरी

Also Read - Mistakes During Navratri Fast: नवरात्रि के व्रत में अपनी डाइट में ना करें ये गलतियां, स्वास्थ पर पड़ेगा गलत असर

नवरात्रि के पहले दिन घटस्‍थापना की जाती है. इसकी स्‍थापना शुभ मुहूर्त में की जाती है. इसके कई नियम हैं. Also Read - Shardiya Navratri 2020: नवरात्रि पर इस तरीके से करें मां की पूजा, घर में हमेशा रहेगा लक्ष्मी का वास

घटस्थापना के लिए सामग्री

– मिट्टी का बर्तन जिसका मुंह चौड़ा हो

– पवित्र स्थान से लायी गयी मिट्टी

– कलश, गंगाजल (उपलब्ध न हो तो सादा जल)

– पत्ते (आम या अशोक के)

– सुपारी

– जटा वाला नारियल

– अक्षत (साबुत चावल)

– लाल वस्त्र

– पुष्प

Shardiya Navratri 2019: नवरात्रि में नौ दिन बन रहे 9 विशेष योग, बेहद फलदायी होगा पूजन…

घटस्थापना के नियम

– दिन के एक तिहाई हिस्से से पहले घटस्थापना की प्रक्रिया संपन्न कर लेनी चाहिए.

– कलश स्थापना के लिए अभिजीत मुहूर्त को सबसे उत्तम माना गया है

घटस्‍थापना कैसे करें

– सबसे पहले जिस स्थान पर आपको घट स्थापना करनी है, उस स्थान को अच्छी तरह साफ कर लें.

– इसके बाद वहां साफ लकड़ी का पटरा या कोई छोटी लकड़ी टेबल पर लाल कपड़ा बिछा लें. इस पर अक्षत डाले जाते हैं तथा कुमकुम मिलाकर डाला जाता है.

– इसके बाद मिट्टी के बर्तन में जौ बो दें और इसी बर्तन में जल से भरा हुआ कलश रख दें.

– इस बात को याद रखें कि जल से भरा कलश खुला नहीं छूटना चाहिए. उस पर मिट्टी का बना ढक्कन जरूर रख दें. ढक्कन पर चावल या गेंहू रखें और उसके ऊपर नारियर रख दें.

– इतना करने के बाद कलश के पास दीप जला दें.

– कुश की चटाई पर बैठ जाएं और हाथ जोड़कर मां के मंत्रों का उच्चारण करें.

घटस्‍थापना शुभ मुहूर्त

घटस्थापना मुहूर्त: सुबह 06:12 बजे से 07:40 बजे तक

अवधि: 1 घंटे 27 मिनट

धर्म से जुड़ी अन्य खबरें पढ़ने के लिए धर्म पर क्लिक करें.