Shardiya Navratri 2019 के चौथे दिन यानी चतुर्थ नवरात्रि को मां कुष्‍मांडा का पूजन किया जाता है.

मां दुर्गा के इस रूप को सृष्‍ट‍ि की आदि स्‍वरूपा और आदि शक्‍त‍ि कहते हैं.

मां कुष्‍मांडा का स्‍वरूप
मां की आठ भुजाएं हैं, इसलिए उन्‍हें अष्‍टभुजा भी कहते हैं. जब सृष्टि नहीं थी, चारों तरफ अंधकार ही अंधकार था, तब इसी देवी ने ब्रह्मांड की रचना की थी. इसीलिए इन्‍हें सृष्टि की आदिस्वरूपा या आदिशक्ति कहा गया है. इनके सात हाथों में कमण्‍डल, धनुष, बाण, कमल-पुष्‍प, अमृतपूर्ण कलश, चक्र और गदा और आठवें हाथ में जप माला है. मां कुष्‍मांडा का वाहन सिंह है.

आयु, यश, बल, आरोग्य मिलता है
मां कुष्‍मांडा की पूजा करने से मन का डर और भय दूर होता है और जीवन में सफलता प्राप्‍त होती है. इससे भक्तों के रोगों और शोकों का नाश होता है तथा उसे आयु, यश, बल और आरोग्य प्राप्त
होता है. यह देवी अत्यल्प सेवा और भक्ति से ही प्रसन्न होकर आशीर्वाद देती हैं.

Vinayaka Chaturthi 2019 October: विनायक चतुर्थी पर ऐसे दें शुभकामनाएं, भेजें ये Messages

पूजन विधि
– सुबह स्‍नान कर पूजा स्‍थान पर बैठें
– हाथों में फूल लेकर देवी को प्रणाम करें
– इसके पश्‍चात ‘सुरासम्‍पूर्णकलश रूधिराप्‍लुतमेव च. दधाना हस्‍तपद्माभ्‍यां कूष्‍माण्‍डा शुभदास्‍तु मे…’ मंत्र का जाप करें
– मां की पूजा के बाद भगवान शंकर की पूजा करना ना भूलें
– इसके बाद भगवान विष्‍णु और मां लक्ष्‍मी की एक साथ पूजा करें

Vinayaka Chaturthi 2019 October: धन प्राप्ति-संकट नाश के लिए विनायक चतुर्थी पर ऐसे करें गणेश पूजन…

– मां कुष्‍मांडा को मालपुए का भोग लगाएं
– मां को भोग लगाने के बाद प्रसाद किसी ब्राहृमण को दान कर दें
– इससे बुद्ध‍ि का विकास होता है और निर्णय लेने की क्षमता विकसित होती है.

क्‍या लगाएं भोग
माता को नीम के पते और फूल के साथ मिठाई चढ़ानी चाहिए. गरीबो में हरे रंग की वस्तु का दान करना चाहिए. मां को हरा रंग प्रिय है, इसलिए हरे रंग के वस्त्र पहनने चाहिए.

धर्म से जुड़ी अन्य खबरें पढ़ने के लिए धर्म पर क्लिक करें.