Putrada Ekadash Vrat 2018: बुधवार 22 अगस्त के दिन पुत्रदा एकादशी व्रत त्योहार मनाया जाएगा. इस दिन बकरीद का त्योहार भी है. श्रावण मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी तिथि को आने वाली एकादशी को पुत्रदा एकादशी व्रत कहते हैं. इस दिन व्रत रखने और भगवान विष्णु की पूजा करने वाले जातकों की संतान प्राप्ति की इच्छा पूर्ण होती है और पापों का नाश होता है. इस व्रत को करने से जातकों को मरणोपरांत मोक्ष की प्राप्ति होती है.Also Read - Shravan Putrada Ekadashi 2019: पढ़ें श्रावण पुत्रदा एकादशी व्रत कथा, जल्‍द मिलेगा संतान सुख...

Also Read - Shravan Putrada Ekadashi 2019: पुत्रदा एकादशी पर इन 8 नियमों का पालन करना जरूरी...

इस व्रत को करने के कुछ नियम हैं. व्रत करने वाले व्यक्ति को इन नियमों का पालन जरूर करना चाहिए, अन्यथा व्रत का फल प्राप्त नहीं होता. Also Read - Shravan Putrada Ekadashi 2019: श्रावण पुत्रदा एकादशी तिथि, महत्‍व, पूजन विधि...

Putrada Ekadash Vrat 2018: तिथि, मुहूर्त, महत्व, पूजन विधि और कथा

जानें पुत्रदा एकादशी व्रत के दिन क्या करें और क्या नहीं:

1. दशमी और एकादशी तिथि के दिन ब्रह्मचर्य के नियमों का पालन करना चाहिए.

2. एकादशी व्रत के दिन दिन में ना सोएं.

3. दशमी तिथि को रात्रि में शहद, चना, साग, मसूर की दाल तथा पान का सेवन नहीं करना चाहिए. शास्त्रों में इन्हें वर्जित माना गया है.

4. एकादशी व्रत के दिन झूठ ना बोलें और ना ही किसी की निंदा करें.

5. एकादशी व्रत के एक दिन पूर्व यानी दशमी तिथि को मांस मदिरा का सेवन नहीं करना चाहिए.

6. पुत्रदा एकादशी के दिन चावल, बैंगन आदि नहीं खाना चाहिए.

7. व्रत के दिन और व्रत से एक दिन पहले कभी भी मांग कर खाना नहीं खाना चाहिए.

8. व्रत की अवधि में जातकों को जुआ नहीं खेलना चाहिए.

धर्म और आस्‍था से जुड़ी खबरों को पढ़ने के ल‍िए यहां क्‍ल‍िक करें.