अगर आप इस साल शादी करने की सोच रहे हैं तो जरा जल्दी करें. क्योंकि 21 जुलाई के बाद 5 महीने तक शादी के लिए कोई भी शुभ मुहूर्त नहीं है. हिन्दू धर्म में मुहूर्त को खास महत्व दी जाती है. हिन्दू पंचांग में यकीन रखने वाले लोग गाड़ी खरीदारी से लेकर शादी जैसे महत्वपूर्ण कार्य तक के लिए शुभ मुहूर्त देखते हैं. लेकिन इस महीने 21 जुलाई के बाद शादी के लिए कोई भी शुभ मुहूर्त नहीं है. साल 2018 में आखिरी के महीनों में शादी के लिए शुभ मुहूर्त है ही नहीं.

क्यों नहीं है कोई शुभ मुहूर्त:

दरअसल, 23 जुलाई को देवशयनी एकादशी होने के बाद चातुर्मास लग रहा है. यानी इन चार मास के दौरान भगवान विष्णु सोने के लिए क्षीर सागर में चले जाएंगे. भगवान विष्णु के शयन मुद्रा में होने से कोई भी मांगलिक कार्य नहीं होते. इसलिए इस दौरान कोई भी शादी का मुहूर्त नहीं होगा. चातुर्मास में हिन्दी शादियां नहीं होतीं. चातुर्मास 19 नवंबर को खत्म होगा. लेकिन फिर भी शादी के लिए शुभ मुहूर्त शुरू नहीं होगा. क्योंकि इसके बाद 16 दिसंबर 2018 से 14 जनवरी 2019 तक धनुर्मास लग जाएगा. इसमें भी विवाह नहीं होंगे.

इन 3 राशियों की लड़कियां होती है भाग्यशाली, शादी के बाद चमक जाती है लड़के की किस्मत

यही नहीं, 13 नवंबर 2018 से 8 दिसंबर 2018 तक गुरु अस्त रहेंगे. इस वजह से विवाह नहीं होंगे.

19 नवंबर को देवोत्थान एकादशी है. देवोत्थान एकादशी के दिन भगवान विष्णु जागते हैं. लेकिन इसके बाद भी विवाह का कोई योग नहीं बन रहा है. क्योंकि गुरु और शुक्र ग्रह अस्त हो रहे हैं. इसलिए इस दौरान शादी का मुहूर्त नहीं आएगा. दोबारा शुक्र और गुरु के उदय होने पर ही शुभ समय शुरू हो सकेंगे.

Sawan Somvar Vrat: जानें, सावन सोमवार व्रत की सही विधि, महत्व और कथा

बता दें कि जुलाई में 7 शादी के मुहूर्त हैं. 13 जुलाई को भड़ली नवमी तिथि आएगी. इस तिथि को शादी के लिए अक्षय तृतीया के बराबर अबूझ मुहूर्त माना जाता है. यदि जुलाई में आपकी शादी का कोई मुहूर्त नहीं बन रहा हो तो 13 जुलाई को शादी की जा सकती है.

सावन और धर्म से जुड़ी अन्य खबरों को पढ़ने के लिए धर्म पर क्लिक करें.