Shubh Vivah Muhurat 2020: हमारे देश में कोई भी काम शुभ मुहूर्त देखकर किया जाता है. अगर बात शादी की हो तो ऐसे में काफी सोच-विचारकर, मुहूर्त, नक्षत्र आदि देखकर ही विवाह तय किया जाता है.

चूंकि भारतीय हिन्दू संस्कृति में शादी को पवित्र बंधन माना जाता है. यह एक जन्म का नहीं बल्कि सात जन्मों का रिश्ता होता है. इसमें लिए जानें वाले सात फेरे, सात वचन होते हैं, जिन्हें जीवनसाथी सात जन्मों तक निभाने का वादा करता है.

आप भी देखें इस साल के शुभ विवाह मुहूर्त, तिथि एवं नक्षत्र.

शुभ विवाह मुहूर्त 2020 की सूची

 

दिनांक और दिन         मास-तिथि             नक्षत्र

10 मार्च, मंगल        चैत्र कृ. प्रतिपदा           हस्त नक्षत्र
11 मार्च, बुध            चैत्र कृ. द्वितीया             हस्त नक्षत्र
16 अप्रैल, गुरु         वैशाख कृ. नवमी          धनिष्ठा नक्षत्र
17 अप्रैल, शुक्र        वैशाख कृ. दशमी        उ.भाद्रपद नक्षत्र
25 अप्रैल, शनि       वैशाख शु. द्वितीया       रोहिणी नक्षत्र
26 अप्रैल, रवि       वैशाख शु. तृतीया          रोहिणी नक्षत्र
1 मई, शुक्र            वैशाख शु. अष्टमी          मघा नक्षत्र
2 मई, शनि           वैशाख शु. नवमी           मघा नक्षत्र
4 मई, सोम           वैशाख शु. एकादशी       उ.फाल्गुनी,हस्त नक्षत्र
5 मई, मंगल          वैशाख शु. त्रयोदशी        हस्त नक्षत्र
6 मई, बुध            वैशाख शु. चतुर्दशी          चित्रा नक्षत्र
15 मई, शुक्र          ज्येष्ठ कृ. अष्टमी             धनिष्ठा नक्षत्र
17 मई, रवि          ज्येष्ठ कृ. दशमी             उ.भाद्रपद नक्षत्र
18 मई, सोम       ज्येष्ठ कृ. एकादशी           उ.भाद्रपद, रेवती नक्षत्र
19 मई, मंगल      ज्येष्ठ कृ. द्वादशी              रेवती नक्षत्र
23 मई, शनि        ज्येष्ठ शु. प्रतिपदा           रोहिणी नक्षत्र
11 जून, गुरु          आषाढ़ कृ. षष्ठी              धनिष्ठा नक्षत्र
15 जून, सोम        आषाढ़ कृ. दशमी            रेवती नक्षत्र
17 जून, बुध           आषाढ़ कृ. एकादशी      अश्विनी नक्षत्र
27 जून, शनि        आषाढ़ शु. सप्तमी           उ.फाल्गुनी नक्षत्र
29 जून, सोम        आषाढ़ शु. नवमी             चित्रा नक्षत्र
30 जून, मंगल       आषाढ़ शु. दशमी           चित्रा नक्षत्र
27 नवंबर, शुक्र     कार्तिक शु. द्वादशी         अश्विनी नक्षत्र
29 नवंबर, रवि      कार्तिक शु. चतुर्दशी        रोहिणी नक्षत्र
30 नवंबर, सोम     कार्तिक पूर्णिमा               रोहिणी नक्षत्र
1 दिसंबर, मंगल     मार्गशीर्ष कृ. प्रतिपदा       रोहिणी नक्षत्र
7 दिसंबर, सोम      मार्गशीर्ष कृ. सप्तमी        मघा नक्षत्र
9 दिसंबर, बुध       मार्गशीर्ष कृ. नवमी         हस्त नक्षत्र
10 दिसंबर, गुरु     मार्गशीर्ष कृ. दशमी         चित्रा नक्षत्र
11 दिसंबर, शुक्र     मार्गशीर्ष कृ. एकादशी      चित्रा नक्षत्र