Ganesh Chaturthi 2019 की धूम पूरे देश में देखी जा रही है. गणेश चतुर्थी पर गणपति के आगमन पर लोगों का जोश देखते ही बनता है. मुंबई पर इस पर्व की खास तैयारियां की जाती हैं.Also Read - यूपी: गणेश प्रतिमा विसर्जन के दौरान नदी में बहे पांच लोग, एक शव बरामद

हर साल की तरह मुंबई से इस साल भी इस पर्व की फोटोज आ रही हैं. मुंबई में लालबाग के राजा के दर्शन के लिए लोगों की भीड़ उमड़ी है. Also Read - Ganesh Chaturthi 2021 : गणपति को घर में स्थापित करने से पहले रखें इन बातों का ख़ास खयाल, कभी नही होगी धन की कमी

Also Read - Delhi News: दिल्ली में इस बार नहीं सजेगा 'लालबाग के राजा का दरबार', DDMA ने नहीं दी है मंजूरी

वहीं सिद्धिविनायक मंदिर में काकड़ आरती हुई. इसके लिए दूर-दूर से लोग आते हैं.

मुंबई के माटूंगा में ‘गोल्ड गणेश’ भी चर्चा का विषय बने हुए हैं. देखें-

क्‍या है महत्‍व
भादो मास के शुक्लपक्ष की चतुर्थी को गणेश चतुर्थी के रूप में मनाया जाता है. ऐसी मान्यता है कि भगवान गणेश का इसी दिन जन्म हुआ था.

भगवान गणेश का जन्म भाद्रपद के शुक्लपक्ष की चतुर्थी को सोमवार के दिन मध्याह्न काल में, स्वाति नक्षत्र और सिंह लग्न में हुआ था. इसलिए मध्याह्न काल में ही भगवान गणेश की पूजा की जाती है, इसे बेहद शुभ समय माना जाता है.

भारतीय संस्कृति में गणेश जी को विद्या-बुद्धि का प्रदाता, विघ्न-विनाशक, मंगलकारी कहा गया है. हर माह के कृष्णपक्ष की चतुर्थी को संकष्टी गणेश चतुर्थी व्रत किया जाता है. पर ये गणेश चतुर्थी व्रत इन सभी में सबसे उत्‍तम होता है.

महाराष्ट्र में यह पर्व गणेशोत्सव के तौर पर मनाया जाता है. ये 10 दिन चलता है और अनंत चतुर्दशी (गणेश विसर्जन दिवस) पर समाप्त होता है. इस दौरान गणेश जी को भव्य रूप से सजाकर उनकी पूजा की जाती है. लोग अपने घरों में गणेश स्‍थापना करते हैं.