नई दिल्‍ली: नए साल का पहला सूर्य ग्रहण 6 जनवरी यानी कल रविवार को है. हालांकि इस बार आंशिक सूर्य ग्रहण होगा, जो कि धरती के उत्‍तर-पूर्वी एशिया और उत्‍तरी पैसिपिफक देशों में दिखाई देगा. भारत के लोग इस सूर्य ग्रहण को दीदार नहीं कर पाएंगे मगर इसका प्रभाव ना पड़े इसलिए इसके उपाय करना जरूरी है. इस बार का सूर्य ग्रहण भारतीय समयानुसार सुबह 5:04 मिनट से शुरू होकर 9:18 बजे खत्‍म हो जाएगा. आइए जानते हैं ये सूर्य ग्रहण कब, कहां और कैसे देखा जा सकेगा. साथ ही आपको बताएंगे वो काम जिन्हें ग्रहण के समय किसी भी गर्भवती महिला को नहीं करना चाहिए.

Surya Grahan 2019: भारत में नहीं यहां दिखेगा आंशिक सूर्य ग्रहण, जानें सही समय

यहां पर दिखेगा ग्रहण
साल का पहला सुर्यग्रहण भारत में दिखाई नहीं देगा. हालांकि यह आंशिक सूर्य ग्रहण है यह आंशिक सूर्य ग्रहण उत्‍तर-पूर्वी एशिया और उत्‍तरी पैसिपिफक देशों में दिखाई देगा. यानी यह जापान, कोरिया, मंगोलिया, ताइवान और रूस व चीन के पूर्वी छोर के अलावा अमेरिका के पश्चिमी हिस्‍से में भी यह ग्रहण दिखाई देगा.

Surya Grahan 6 Jan 2019: अमावस्‍या पर आंशिक सूर्य ग्रहण, भारत में ये होगा समय, जानें कबसे लगेगा सूतक…

सुरक्षित नहीं है ग्रहण देखना
सूर्य ग्रहण चाहे कैसा भी हो आंशिक या पूर्ण उसे खुली या नंगी आंखों से नहीं देखना चाहिए. हालांकि सूर्य ग्रहण को देखने के लिए बाजार में कई तरह के चश्‍मे उपलब्‍ध हैं. इन चश्‍मों का इस्‍तेमाल कर आप अपनी आंखों को नुकसान पहुंचाए बिना इस खगोलीय घटना के साक्षी बन सकते हैं. सूर्य ग्रहण दूरबीन या पिनहोल कैमरे की मदद से भी देखा जा सकता है.

Solar and Lunar Eclipses 2019: नए साल में लगेंगे 5 ग्रहण, जानें तिथि-समय, साल के पहले हफ्ते में पहला ग्रहण…

ग्रहण के दौरान गर्भवती महिलाएं ना करें ये काम

  1. ग्रहण के समय गर्भवती महिलाओं को किसी भी तरह की नुकीली चीज का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए. इस दौरान फल या सब्जी काटने की गलती बिल्कुल करें. मान्यता है कि ऐसा करने से उसके शिशु के अंगों को हानि पहुंच सकती है.
  2. किसी भी स्थिती में गर्भवती महिला को ग्रहण के दौरान कैंची का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए. ऐसी मान्यता है कि कैंची का इस्तेमाल करने से होने वाले शिशु के होंठ कट जाते हैं.
  3. ग्रहण के तुरंत बाद गर्भवती महिलाओं को नहा लेना चाहिए. ग्रहण के समय नकारात्मक प्रभाव से बचने के लिए तुलसी का पत्ता जीभ पर रखकर हनुमान चालीसा का पाठ करना चाहिए.

धर्म की और खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें.