नई दिल्‍ली: नए साल का पहला चन्‍द्रग्रहण 21 जनवरी 2019 को लगेगा, इसको ‘सुपर ब्लड वुल्फ मून’ के नाम से जाना जाएगा. ये ग्रहण इस साल का दूसरा ग्रहण होगा, क्‍योंकि इससे पहले सूर्य ग्रहण लग चुका है. हालांकि ये चंद्र ग्रहण भारत में दिखाई नहीं देगा. यह चंद्र ग्रहण मध्य प्रशांत महासागर, उत्तरी और दक्षिणी अमेरिका, यूरोप और अफ्रीका में दिखाई देगा.

Kumbh Mela 2019: कब है अगला शाही स्‍नान, किस दिन से श्रद्धालु शुरू करेंगे कल्‍पवास

क्‍यों होता है चन्‍द्रग्रहण
चंद्रग्रहण उस खगोलीय स्थिति को कहते है जब चंद्रमा पृथ्वी के ठीक पीछे उसकी प्रच्छाया में आ जाता है. ऐसा तभी हो सकता है जब सूर्य, पृथ्वी और चन्द्रमा इस क्रम में लगभग एक सीधी रेखा में अवस्थित हों. इस ज्यामितीय प्रतिबंध के कारण चंद्रग्रहण केवल पूर्णिमा को घटित हो सकता है. चंद्रग्रहण का प्रकार एवं अवधि चंद्र आसंधियों के सापेक्ष चंद्रमा की स्थिति पर निर्भर करते हैं. चांद के इस रूप को ‘ब्लड मून’ भी कहा जाता है. चंद्र ग्रहण शुरू होने के बाद ये पहले काले और फिर धीरे-धीरे सुर्ख लाल रंग में तब्दील होता है. किसी सूर्यग्रहण के विपरीत, जो कि पृथ्वी के एक अपेक्षाकृत छोटे भाग से ही दिख पाता है, चंद्रग्रहण को पृथ्वी के रात्रि पक्ष के किसी भी भाग से देखा जा सकता है. जहां चंद्रमा की छाया की लघुता के कारण सूर्यग्रहण किसी भी स्थान से केवल कुछ मिनटों तक ही दिखता है, वहीं चंद्रग्रहण की अवधि कुछ घंटों की होती है. इसके अतिरिक्त चंद्रग्रहण को, सूर्यग्रहण के विपरीत, आँखों के लिए बिना किसी विशेष सुरक्षा के देखा जा सकता है, क्योंकि चंद्रग्रहण की उज्ज्वलता पूर्ण चंद्र से भी कम होती है.

Kurma Dwadashi 2019: आज है कूर्म द्वादशी, जानिए पूजन विधि व भगवान् विष्णु के इस अवतार की कथा

क्‍या है सही समय
भारतीय समयानुसार ये चंद्रग्रहण सुबह 10.11 बजे से शुरू होगा और तकरीबन 1 घंटा यानि 11.12 बजे तक रहेगा. वही ग्रहण से पहले सूतक काल 12 घंटे पहले ही शुरू हो जाता है. इस लिहाज़ से सूतक 20 जनवरी की रात 9 बजे से ही शुरू हो जाएगा. वैसे बता दें कि चूंकि यह चंद्र ग्रहण भारत में नहीं दिखाई देगा, इसलिए यहां पर इसका धार्मिक महत्व और सूतक मान्य नहीं होगा. चंद्र ग्रहण पुष्य नक्षत्र और कर्क राशि में लगेगा, इसलिए इस राशि और नक्षत्र से संबंधित लोग इस चंद्र ग्रहण से प्रभावित होंगे.

Kumbh 2019: कुंभ में आने वाले नागा साधुओं के बारे में वो बातें, जिससे आप भी होंगे अंजान

यहां दिखेगा चंद्रग्रहण
इस बार चंद्रग्रहण केवल अफ्रीका, यूरोप, उत्तरी-दक्षिणी अमेरिका और मध्य प्रशांत में ही नज़र आएगा. इससे पहले सूर्य ग्रहण भी भारत में नज़र नहीं आया था. 21 जनवरी को पड़ने वाला चंद्रग्रहण न्यूयार्क, लॉस एंजिलेस, लंदन, शिकागो, एथेंस, पेरिस, मास्को, ब्रेसेल्स और वाशिंगटन डीसी में नज़र आएगा.

धर्म से जुड़ी अन्य खबरों को पढ़ने के लिए धर्म पर क्लिक करें.