नई दिल्लीः साल के आखिरी महीने मतलब दिसंबर महीने की 26 तारीख को साल 2019 का तीसरा और आखिरी सूर्य ग्रहण (Solar Eclipse) लगने वाला है. ग्रहण लगने के पहले ही ग्रहण का सूतक काल शुरू हो जाता है. धार्मिक मान्यताओं के मुताबिक सूर्य ग्रहण (Solar Eclipse) के दौरान ऐसे कई काम हैं जिन्हें करने से बचना चाहिए, क्योंकि ऐसा करने से कई बार जीवन में इसके दुष्प्रभाव देखने को मिलते हैं. इसलिए ग्रहण के दौरान सूतक काल में कुछ कार्यों को करने से बचना चाहिए. ऐसे में आपका यह जानना बेहद जरूरी है कि सूर्य ग्रहण के सूतक काल के दौरान किन कामों को बिल्कुल भी नहीं करना चाहिए.Also Read - June 2021 Vrat-Tyohar Full List: वट सावित्री व्रत, ज्येष्ठ पूर्णिमा, सूर्यग्रहण, गंगा दशहरा समेत ये हैं जून में आने वाले व्रत-त्योहारों की संपूर्ण लिस्ट

सूतक काल का समय
25 दिसंबर 2019 को शाम 5 बजकर 30 मिनट से
26 दिसंबर 2019 को सुबह 10 बजकर 57 मिनट तक Also Read - Chandra Grahan Timing: देश के इन हिस्सों में दिखेगा चंद्रग्रहण, जानें किस टाइम में कहां आएगा नजर; सभी जानकारी है यहां...

सूतक काल में क्या ना करें
– सूतक के समय और ग्रहण के समय भगवान की मूर्ति को स्पर्श न करें.
– खाना-पीना, सोना, नाखून काटना, भोजन बनाना, तेल लगाना भी सूतक काल के दौरान भूलकर भी न करें.
– सूर्य ग्रहण के सूतक काल में श्मशान या सुनसान जगह से न गुजरें, क्योंकि इस दौरान बुरी शक्तियां अत्यंत प्रभावी रहती हैं.
– सूतक काल के दारन तुलसी के पत्तों को बिल्कुल भी न तोड़ें. तुलसी का इस्तेमाल करना है तो सूतक काल से पहले ही तोड़ लें.
– सूतक काल के दौरान मांस-मदिरा का सेवन न करें. इससे कई तरह की परेशानियां हो सकती हैं. Also Read - 2021 में चार ग्रहण होंगे, पूरी तरह से ढँक जाएंगे चांद और सूरज, जानें डेट और समय