Surya Grahan 2019: साल 2019 का आखिरी सूर्यग्रहण 26 दिसंबर, गुरुवार को लगने जा रहा है. ज्‍योतिषी इस ग्रहण को काफी प्रभावी मान रहे हैं.

ज्‍योतिष में कहा गया है कि सूर्य और चंद्र ग्रहण का असर सभी राशियों पर होता है. साथ ही जो लोग सूतक काल और ग्रहण के समय नियमों का पालन नहीं करते हैं, उन्‍हें कई प्रकार के कष्‍ट झेलने होते हैं. ऐसे में आपको भी उन कार्यों को जानना चाहिए जिन्‍हें सूतक और ग्रहण समय में करने की मनाही है.

Surya Grahan 2019: बेहद प्रभावशाली है साल का आखिरी सूर्य ग्रहण, 1962 के ग्रहण से ये है समानता…

सूतक-सूर्य ग्रहण में क्‍या ना करें

– ग्रहण के दौरान भगवान का ध्‍यान करना चाहिए. नकारात्मक विचार मन में नहीं लाने चाहिए.

– गर्भवती महिलाओं को कोई काम नहीं करना चाहिए. उन्‍हें सीधा होकर लेटने की हिदायत दी जाती है.

– सूर्य ग्रहण के दौरान खाना पकाने, कुछ भी खाने की मनाही होती है. हालांकि बच्‍चों और बुजुर्गों, बीमारों को इससे राहत हाती है.

– ग्रहण में कपड़े नहीं सिलने चाहिए. सूई का प्रयोग नहीं करना चाहिए. इसके अलावा नुकीली चीजों का इस्तेमाल करने से बचना चाहिए.

– हिंदू धर्म में सूर्य ग्रहण को देखना शुभ नहीं माना जाता.

– इस दौरान मंदिर बंद रखने चाहिए. भगवान की मूर्ति को स्‍पर्श भी नहीं करना चाहिए.

– बुरे कामों, बुरे विचारों से दूर रहें.

Rashifal January-December 2020: जनवरी में शनिदेव बदलेंगे चाल, किन राशियों का होगा बुरा हाल

– भगवान के मंत्रों का जाप करें.

– ग्रहण समाप्‍त के बाद स्नान करने की मान्यता है.

Surya Grahan Sutak
सूर्य ग्रहण का सूतक ग्रहण लगने से 12 घंटे पहले आरंभ हो जाता है. 26 दिसंबर के ग्रहण का सूतक 25 दिसंबर को शाम 5 बजकर 32 मिनट से आरंभ हो जाएगा और ग्रहण खत्म होने पर समाप्त होगा. सूतक काल को किसी शुभ कार्य के लिए अच्छा नहीं माना जाता. खंडग्रास सूर्यग्रहण के कारण 12 घंटे पहले लगने वाले सूतक के कारण 25 दिसंबर, बुधवार रात 8 बजे मंदिरों के कपाट बंद कर दिए जाएंगे.

धर्म की और खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें.