नई दिल्ली: 14 दिसंबर को साल का आखिरी सूर्यग्रहण  (Surya Grahan 2020) लगने जा रहा है. जब पृथ्वी और सूर्य के बीच चंद्रमा आता है तो इस स्थिति को सूर्य ग्रहण कहते हैं. लेकिन चंद्रमा जब आंशिक रूप से सूर्य को ढके तो इस खंड -ग्रास सूर्य ग्रहण कहते हैं. इस ग्रहण की कुल अवधि 5 घंटे की रहेगी. ज्योतिषीय दृष्टि से यह सूर्य ग्रहण वृश्चिक राशि और ज्येष्ठा नक्षत्र में लगेगा. तिथि अनुसार यह ग्रहण अगहन कृष्‍ण अमावस्‍या को घटित होगा.Also Read - June 2021 Vrat-Tyohar Full List: वट सावित्री व्रत, ज्येष्ठ पूर्णिमा, सूर्यग्रहण, गंगा दशहरा समेत ये हैं जून में आने वाले व्रत-त्योहारों की संपूर्ण लिस्ट

सूर्यग्रहण (Surya Grahan Inauspicious Yoga) पर बन रहा है बेहद खतरनाक योग
ज्योतिष शास्त्र के मुताबिक, इस सूर्य ग्रहण के दौरान गुरु चंडाल योग भी बन रहा है. वहीं राहु की दृष्टि देवगुरु बृहस्पति पर पड़ रही है. बृहस्पति मकर राशि में शनि के साथ स्थित हैं. जिन लोगों की जन्म कुंडली में पहले से ही गुरु चंडाल योग बना हुआ है उन्हें अधिक सावधानी बरतने की जरूरत है. Also Read - 2021 में चार ग्रहण होंगे, पूरी तरह से ढँक जाएंगे चांद और सूरज, जानें डेट और समय

इन राशि वाले लोग रहे सावधान
ज्योतिष शास्त्र के मुताबिक, सूर्य ग्रहण का बुरा प्रभाव मेष, कर्क, मिथुन, कन्या, तुला और मकर राशि में पड़ेगा. ऐसी स्थिति में इन राशि के जातकों को विशेष सावधानी बरतनी होगी. इन राशि के लोग इस दौरान गुस्सा करने से बचें. Also Read - Surya Grahan 2020: साल का आखिरी सूर्य ग्रहण आज, जानें इसके बारे में सबकुछ; सूतक काल से लेकर...

ये होगा सूतक काल का समय
सूर्य ग्रहण लगने से 12 घंटे पूर्व सूतक काल का आरंभ होगा. सूतक काल में कोई भी शुभ कार्य नहीं करने चाहिए. छोटे बच्चों और गर्भवती महिलाओं को इस सूतक काल में विशेष सावधानी बरतनी चाहिए. हिंदू पंचांग की गणना के अनुसार यह सूर्य ग्रहण वृश्चिक राशि में और ज्येष्ठा नक्षत्र में लगेगा.