चॉकलेट भला किसे पसंद नहीं होती. पर अब हम आपको बता रहे हैं चॉकलेट से जुड़ी ऐसी बात, जो आप शायद ही जानते हों.

Basant Panchami 2019: बसंत पंचमी से ब्रज में शुरू होगा ‘रंगोत्सव’, इस दिन होगी लट्ठमार होली

हमारे देश में एक ऐसा मंदिर है, जहां भगवान को चॉकलेट का प्रसाद चढ़ाया जाता है. कुछ हजार नहीं, बल्कि लाखों की संख्‍या में लोग यहां चॉकलेट लेकर पहुंचते हैं.

ये मंदिर है केरल में. नाम है थेक्कन पलानी बालसुब्रमण्यम मंदिर. ये अकेला ऐसा मंदिर है जहां भगवान मुरुगन को प्रसाद के रूप में चॉकलेट चढ़ाई जाती है. इसके बाद ये चॉकलेट, भक्तों में बांट दी जाती है.

मंदिर में भगवान की मूर्ति उनके बालरूप में रखी गई है. यहां आने वाले बच्चे पहले इस मंदिर में चॉकलेट चढाने का काम किया करते थे लेकिन उसके बाद एक बड़े लोगों ने भी चॉकलेट चढ़ाना शुरू कर दिया.

Basant Panchmi पर क्‍यों की जाती है कामदेव पूजा? दांपत्‍य जीवन पर होता है ये असर…

कौन हैं मुरुगन स्‍वामी
कर्तिकेय को केरल में मुरुगन के नाम से जाना जाता है. भगवान कार्तिकेय माता पार्वती और शंकर भगवान के पुत्र हैं. इस मंदिर में बालरूप की प्रतिमा होने के कारण भी चॉकलेट चढाने की परम्परा की शुरुआत हुई. तब से अब तक हर दिन बड़ी संख्या में भक्त इस मंदिर में आते हैं और पूरी आस्था के साथ चॉकलेट चढाते हैं.

धर्म की और खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें.