आप मंदिर जाते हैं तो भगवान को भोग लगाने के लिए कई तरह के प्रसाद बनाकर ले जाते होंगे. एक से एक पकवान, जिनसे ईश्‍वर प्रसन्‍न हों और आपकी हर मुराद पूरी हो.

बिल्‍ली रास्‍ता काट दे तो क्‍यों रुक जाते हैं आप? क्‍यों माना जाता है अशुभ?

पर हमारे देश में एक मंदिर ऐसा भी है, जहां लोग प्रसाद नहीं बल्कि जूतों की माला चढ़ाते हैं. ये मंदिर माता का है.

Photo: ANI

 

मंदिर कनार्टक के गुलबर्ग जिले में है. नाम है लकम्‍मा देवी मंदिर. इस मंदिर में हर साल ‘फुटवियर फेस्टिवल’ भी होता है, जिसमें काफी दूर से लोग आते हैं.

Durga Ashtami Date 2019: देखें मासिक दुर्गाष्‍टमी का पूरा कैलेंडर, पूजा विधि भी पढ़ें

इस मंदिर के हजारों मील दूर तक ये मान्‍यता है कि मंदिर में सभी की मनोकामनाएं पूरी होती है. अगर सच्‍चे दिल से यहां कुछ मांगा जाए तो देवी उसे पूरा करती हैं.

Photo: ANI

 

क्‍यों चढ़ाई जाती है चप्‍पल
लोगों का मानना है कि अगर देवी को चप्‍पल चढ़ाई जाए तो इससे वे प्रसन्‍न होती हैं और बुरी शक्तियों से रक्षा करती हैं. यही नहीं जिन लोगों के पैरों और घुटनों में दर्द रहता है वे यहां बड़ी संख्‍या में चप्‍पल चढ़ाते हैं. उनका मानना है कि ऐसा करने से देवी उनके इस दर्द को दूर करती हैं.

एक मान्‍यता ये भी है कि भक्‍तों द्वारा चढ़ाई गई चप्‍पलों को देवी रात में पहनकर घूमती हैं. आपको जानकर हैरानी होगी कि इस मंदिर में केवल हिंदू ही नहीं बल्कि मुस्लिम समुदाय के लोग भी आते हैं.

धर्म की और खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें.