Vijaya Ekadashi 2020: अगर आपके काम पूरे नहीं होते, बनते-बनते बात बिगड़ जाती है तो विजया एकादशी का व्रत करना चाहिए. ये व्रत विजय दिलाने वाला व्रत माना गया है. Also Read - Vijaya Ekadashi 2020: पढ़ें विजया एकादशी व्रत की पौराणिक कथा, ऐसे करें श्रीहरि पूजन...

Vijaya Ekadashi 2020 Date

विजया एकादशी का व्रत इस बार 19 फरवरी, बुधवार को है. हर साल ये व्रत फाल्गुन मास की कृष्ण एकादशी को होता है. Also Read - Vrat Tyohar 17-23 February 2020: महाशिवरात्रि समेत इस सप्‍ताह हर दिन प्रमुख व्रत-त्‍योहार, देखें पांचांग

विजया एकादशी का महत्‍व

कहा जाता है कि विजया एकादशी का व्रत करने से व्रत रखने वाले की हर मनोकामना पूरी होती है. हर कार्य में सफलता मिलने लगती है. व्रती को पूर्वजन्म और इस जन्‍म के सभी पापों से छुटकारा मिल जाता है. पद्म पुराण में भी इस एकादशी के महत्‍व के बारे में बताया गया है. पुराण में कहा गया है कि इस व्रत को रखने से व्‍यक्ति पर मुसीबत नहीं आती. काम पूरे होते जाते हैं. Also Read - Vrat Tyohar In February 2020: जया-विजया एकादशी, माघ पूर्णिमा, महाशिवरात्रि समेत फरवरी के संपूर्ण व्रत त्‍योहारों की List

Shani Transit 2020: शनिदेव का राशि परिवर्तन, शुरू हुई है साढ़ेसाती या ढैया तो शनिवार को करें ये उपाय

व्रत विधि

इस व्रत के नियम काफी कठिन हैं. एक दिन पहले केवल एक समय भोजन करना होता है. एकादशी के दिन उपवास किया जाता है. व्रत का पारण एकादशी के अगले दिन सूर्योदय के बाद करना होता है. अगर इस व्रत को निर्जला किया जाए तो सर्वोत्‍तम. इसके अलावा पानी के साथ, केवल फल के साथ, एक समय सात्विक भोजन के साथ इस उपवास को रख सकते हैं. ये भी ध्‍यान रखने योग्‍य बात है कि अगर आप पूरे साल एकादशी व्रत रख रहे हैं तो इन्‍हें एक ही तरीके से रखना चाहिए.

Vijaya Ekadashi Shubh Muhurat

विजया एकादशी इस बार 18 फरवरी को दोपहर 2:32 बजे पर शुरू होगी. 19 फरवरी को दोपहर 3:01 बजे तक रहेगी.

धर्म की और खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें.