शनिदेव प्रसन्‍न हो तो हर बिगड़े काम पूरे हो जाते हैं. लोग शनिदेव के प्रकोप से बचने को भला क्‍या कुछ नहीं करते हैं. अगर आप भी उन्‍हें प्रसन्‍न करना चाहते हैं तो जानें ऐसे ही उपायों के बारे में.

– शुक्रवार रात काला चना पानी में भिगोएं. शनिवार को भीगा काला चना, जला कोयला, हल्दी-लोहे का एक टुकड़ा लें और एक काले कपड़े में इन्‍हें बांध दें. पोटली को बहते हुए पानी में फेंके लेकिन ध्यान दे जिस पोटली को आप तालाब में फेंक रहें है उसमे मछलियां हों. इसे हर शनिवार करें.

– काले घोड़े की तलाश करें. उस घोड़े की नाल खोजकर ले आएं. इस नाल से शनिवार के दिन किसी लोहार के यहां से अंगूठी बनवा लें. शुक्रवार को कच्चे दूध में भिगाकर रख दें. शनिवार को इसे पहन लें.

– शनिवार को पीपल के वृक्ष के चारों ओर सात बार कच्चा सूत लपेटें. इस दौरान शनि मंत्र का जाप करें. इसे करने से साढ़ेसाती की सभी परेशानियां दूर हो जाएंगी.

– शनिदेव की साढ़ेसाती के सभी प्रतिकूल प्रभावों को रोकने के लिए काले गाय की पूजा करें. गाय के माथे पर तिलक लगाकर उसके सींग पर धागा बांधे.

– शनिवार सुबह नहाने के बाद हनुमान चालीसा पढ़ें. हनुमान चालीसा पढ़ने वाले इंसान पर कभी शनि देव की खराब दृष्टि नहीं पड़ती.