Advertisement

Rohit Sharma को बनाया जाए टेस्ट कप्तान लेकिन उनकी फिटनेस गंभीर मसला: Ravi Shastri

भारत के पूर्व कोच रवि शास्त्री ने कहा- रोहित शर्मा को हाल ही में टेस्ट टीम का उपकप्तान बनाया गया था. अब उन्हें प्रमोशन मिलना ही चाहिए.

By Arun Kumar | Updated: January 24, 2022 6:12 PM IST

विराट कोहली के टेस्ट टीम की कमान छोड़ने के बाद भारतीय टीम नया टेस्ट कप्तान ढूंढ रही है. इस मसले पर पूर्व भारतीय कोच रवि शास्त्री ने भी अपनी राय रखी है.

रवि शास्त्री हाल तक भारतीय टीम के मुख्य कोच थे. टी20 वर्ल्ड कप में उनका कार्यकाल खत्म कर अपने शानदार कोचिंग करियर का अंत किया है.

इस पूर्व कोच ने कहा रोहित शर्मा को भारत का टेस्ट कप्तान बनाया जाना चाहिए. बशर्ते सीनियर बल्लेबाज अपनी फिटनेस बनाए रख सकें. बीते कुछ समय में रोहित शर्मा अपनी हैम्स्ट्रिंग चोट से बार-बार जूझ रहे हैं, जिसके चलते उनकी फिटनेस पर सवाल उठ रहे हैं.

साउथ अफ्रीका दौरे से पहले रोहित शर्मा को चयनकर्ताओं ने पहली बार उपकप्तान बनाया था. सिलेक्टर्स ने खराब फॉर्म से जूझ रहे अजिंक्य रहाणे को यहां से हटाकर कप्तानी दी.

हालांकि वह भारतीय टीम के साथ साउथ अफ्रीका दौरे पर नहीं जा सके. साउथ अफ्रीका रवाना होने से पहले टीम के कंडिशनिंग कैंप में उनकी हैम्स्ट्रिंग चोटिल हो गई.

हालांकि शास्त्री ने कहा कि अगर रोहित शर्मा फिट हैं तो उन्हें टेस्ट टीम का कप्तान बनाना चाहिए. उन्हें हाल ही में उपकप्तान बनाया गया था. तो कप्तानी में प्रमोशन क्यों नहीं दिया जा सकता.

रवि शास्त्री इंडिया टुडे से बात कर रहे थे. इस दौरान उन्होंने कहा, रोहित में सभी फॉर्मेट में टीम का नेतृत्व करने की क्षमता है. उन्होंने इसके साथ ही रिषभ पंत को उपकप्तान बनाने की पैरवी भी की.

शास्त्री ने कहा, BCCI निश्चित तौर पर यहां से भविष्य की ओर देख रहा है. इसके लिए एक युवा खिलाड़ी को तैयार करने की जरूरत है और उसे रिषभ पंत की ओर देखना चाहिए. वह भविष्य के लीडर हैं.

पूर्व कोच ने कहा, रिषभ एक जबरदस्त युवा खिलाड़ी हैं. वह खेल का अच्छी तरह से आकलन करते हैं और हमेशा अपनी टीम को आगे ले जाने का प्रयास करते हैं. इसलिए उन्हें नेतृत्व के लिए ध्यान में रखना चाहिए.

पंत की तारीफ में उन्होंने कहा, माना जाता है कि वह हमेशा वही करते हैं, जो वह चाहते हैं, लेकिन यह सच नहीं है. वह हमेशा टीम को आगे रखते हैं और सभी की बात ध्यान से सुनते हैं. उनमें नेतृत्वकर्ता के गुण हैं.