गांधीनगर. गुजरात विधानसभा चुनाव में एक महीने से कम का समय बचा है. कांग्रेस को जीत दिलाने के लिए राहुल गांधी जहां एड़ी चोटी का जोर लगा रहे हैं वहीं 17 साल से गुजरात में राज करने वाली बीजेपी किसी भी हाल में हारना नहीं चाहती है. लेकिन इस बार माना जा रहा है कि कांग्रेस और बीजेपी में कांटे की टक्कर है. यही कारण हैं कि दोनों ही बड़ी पार्टियां हर कदम फूंक-फूंक कर उठा रही है.

दोनों ही पार्टियों के दिग्गज नेता जीत का दम तो भर रहे हैं लेकिन अभी तक दोनों ही पार्टियों के उम्मीदवारों की पहली सूची जारी नहीं की है. बीजेपी और कांग्रेस एक दूसरे का इंतजार कर रही हैं. पहले कौन सूची जारी करेगा. वहीं इस बार के चुनाव में राहुल गांधी के प्रचार का अंदाज देखकर बीजेपी खेमा में चिंता पसरी हुई है. बता दें कि बुधवार को दिल्ली में बीजेपी के संसदीय बोर्ड औऱ केंद्रीय चुनाव समिति की बैठक हुई थी.

PM Modi is still most popular leader of India: Survey | पीएम मोदी का जादू बरकरार, भारतीय राजनीति में अब भी सबसे लोकप्रिय हस्ती : सर्वेक्षण

PM Modi is still most popular leader of India: Survey | पीएम मोदी का जादू बरकरार, भारतीय राजनीति में अब भी सबसे लोकप्रिय हस्ती : सर्वेक्षण

बैठक के बाद भी नहीं हुआ लिस्ट जारी

दिल्ली में हुई इस बैठक में पीएम मोदी, अध्यक्ष अमित शाह, अरुण जेटली, जेपी नड्डा, नितिन गडकरी, शाहनवाज़ हुसैन, विजय रूपानी, भूपेंद्र यादव, जीतू वधानी, सुषमा स्वराज दिग्गज नेता भी मौजूद थे. लेकिन इस बैठक के बाद भी बीजेपी ने उम्मीदवारों की सूची को जारी नहीं किया.

गुजरात में उम्मीदवार चयन की प्रक्रिया एक महीने तक चल रही है. बीजेपी नेताओं ने पिछले महीने देर से विस्तृत जिला स्तर की बैठकें की थी और एक सूची तैयार की जिसे पार्टी की राज्य चुनाव समिति के विचार के लिए भेजा गया था. 182 सीटों के लिए राज्य पैनल के सदस्य 10 नवंबर -11 और प्रस्तावित नामों पर मिले थे. लेकिन खबरों की माने तो बीजेपी कांग्रेस की सूची का इंतजार कर रही है.

Gujarat Assembly Elections 2017: BJP got permission to use Yuvraj | चुनाव आयोग ने ‘युवराज’ शब्द के साथ गुजरात बीजेपी के विज्ञापन को मंजूरी दी

Gujarat Assembly Elections 2017: BJP got permission to use Yuvraj | चुनाव आयोग ने ‘युवराज’ शब्द के साथ गुजरात बीजेपी के विज्ञापन को मंजूरी दी

मौजूदा विधायकों में चिंता

सूत्रों की माने तो बीजेपी के मौजूदा विधायकों में चिंता पसरा हुआ है. क्योंकि माना जा रहा है कईयों के टिकट कट सकता है. बता दें कि साल 2007 में, मोदी ने 47 मौजूदा विधायकों और 2012 में 30 के लिए टिकट से इनकार कर दिया था. वहीं कांग्रेस को भी इसी बात चिंता है सूची जारी होने पर पार्टी को नाराज उम्मीदवारों की बगावत भी झेलनी पड़ सकती हैं. फिलहाल बीजेपी की तरफ से अमित शाह 150 सीटों पर जीत और कांग्रेस की तरफ राहुल गांधी हुंकार भर रहे हैं.