राजकोट. गुजरात में चुनाव प्रचार के दौरान पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने प्रोटोकॉल तोड़कर एक बुजुर्ग से मुलाकात की. हालांकि अजीब स्थिति तब पैदा हो गई जब बुजुर्ग ने मनमोहन सिंह को यूपीए के घोटालो की लिस्ट थमा दी. इस अजीब वाकये का जिक्र खुद पीएम नरेंद्र मोदी ने गुजरात के कलोल की रैली में किया. मोदी ने कांग्रेस का मखौल उड़ाते हुए पूछा कि राजकोट में क्या हुआ था? मनसुख काका ने मनमोहन से मुलाकात कर यूपीए सरकार में हुए घोटालों की लिस्ट उन्हें सौंप दी. मैं मनसुख काका को बधाई देता हूं जिन्होंने सच कहा. 

गुजरात: अय्यर का 'नीच आदमी' बयान फिर डुबो देगा कांग्रेस की नैया?

गुजरात: अय्यर का 'नीच आदमी' बयान फिर डुबो देगा कांग्रेस की नैया?

दरअसल, गुजरात विधानसभा चुनाव को लेकर देश के पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह राजकोट में मौजूद थे. राजकोट में एक सभा करने के बाद मनमोहन ने प्रेस कॉन्फ्रेंस की. इसी दौरान उनके साथ एक ऐसा वाकया हुआ जो खबरों में छा गया. दरअसल, मनमोहन सिंह एसपीजी की सुरक्षा घेरे में थे, तभी मनसुखभाई नाम का बुजुर्ग शख्स प्रोटोकॉल तोड़कर मनमोहन के पास जा पहुंचा और बात करने लगा.

बुजुर्ग की बात सुन मनमोहन सिंह ने अपने ही अंदाज में उसके हाथ जोड़ लिए और चुपचाप खड़े हो गए. आसपास खड़े लोग ये देखकर हैरान थे कि बुजुर्ग ने ऐसा क्या कह दिया कि मनमोहन सिंह ने उसके हाथ जोड़ लिए. एसपीजी जवानों को पहले तो लगा कि मनमुखभाई कांग्रेस पार्टी के ही कोई कार्यकर्ता हैं लेकिन जैसे ही शब्द उनके कानों तक पहुंचे बुजुर्ग को हटा दिया गया.

मीडिया ने बाद में मनसुखभाई के पास गई और सवाल पूछा तो उन्होंने कहा कि मैं कांग्रेस के घोटालों की किताब लेकर मनमोहन सिंह के पास गया था. उन्होंने बताया कि वह यूपीए सरकार के कार्यकाल में हुए घोटालों के बारे में मनमोहन सिंह से सवाल पूछ रहे थे.

मनसुखभाई ने बताया, ‘मैंने मनमोहन सिंह से पूछा था कि आपके कार्यकाल में 20 लाख करोड़ के घपले हुए. आपके नेता जेल में हैं और कई बाहर घूम रहे हैं. ऐसे में कांग्रेस को वोट क्यों दूं?’ मीडिया रिपोर्ट्स में बताया गया कि मनसुखभाई किसी जमाने में कांग्रेस से जुड़े थे और घोटालों से नाराज होकर मनमोहन सिंह से ख़ासतौर पर मिलने प्रेस कॉन्फ्रेंस में आए थे.