Gujarat Lockdown Update: देश में कोरोना की दूसरी लहर का कहर कम होने के बाद ज्यादातर राज्यों में लॉकडाउन जैसी पाबंदियों (Lockdown Restrictions) में ढील दी गई है. इन सबके बीच गुजरात की विजय रूपाणी सरकार ने राज्य में नाइट कर्फ्यू (Gujarat Night Curfew) की पाबंदियों में और ढील देने का फैसला किया है.Also Read - देश को मिली तीसरी वंदे भारत एक्सप्रेस ट्रेन, गुजरात में पीएम मोदी ने दिखाई हरी झंडी

गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रूपाणी ने बुधवार कोर कमेटी की बैठक की अध्यक्षता की. इस दौरान राज्य के 8 प्रमुख शहरों में लागू नाइट कर्फ्यू की टाइमिंग घटाने का फैसला किया है. राज्य सरकार की तरफ से जारी ताजा दिशा निर्देश के अनुसार, 31 जुलाई से नाइट कर्फ्यू की टाइमिंग रात 11 बजे से सुबह 6 बजे तक होगी. पहले यह रात 10 बजे से सुबह 6 बजे तक था. इसके साथ-साथ सरकार ने रात 10 बजे तक होटल और रेस्टोरेंट को भी खोलने की आदेश दिया है. Also Read - पीएम मोदी का गुजरात दौरा : जनसभा को संबोधित करते हुए बोले PM Narendra Modi - 'सूरत मिनी इंडिया है'

Also Read - अमित शाह का हमला, कांग्रेस नेताओं ने देश में मेडिकल एजुकेशन में सुधार के नाम पर पैसा बनाया

इसके साथ-साथ गुजरात सरकार की तरफ से जारी ताजा गाइडलाइंस के अनुसार, राज्य में 31 जुलाई से खुले स्थानों में सार्वजनिक समारोहों में 400 व्यक्तियों को अनुमति दी जाएगी. बंद स्थानों में 50% तक बैठने की क्षमता वाले कार्यों की अनुमति है. आगामी गणेशोत्सव के लिए सार्वजनिक रूप से अधिकतम 4 फीट की गणेश प्रतिमा की स्थापना की अनुमति होगी.

उधर, गुजरात सरकार ने प्राइवेट लैब द्वारा कराई जा रही RT-PCR जांच की दरों को 700 रुपये से घटाकर 400 रुपये करने का फैसला किया. उप मुख्यमंत्री नितिन पटेल ने संवाददाताओं को बताया कि आरटी पीसीआर जांच के वास्ते घरों या अस्पतालों से एकत्र किये गए नमूनों के लिए निजी प्रयोगशालाएं 550 रुपये से ज्यादा नहीं वसूल सकती. पहले इसके लिए 900 रुपये लिए जाते थे.

गुजरात के स्वास्थ्य मंत्री पटेल ने यह भी कहा कि हवाई अड्डों पर यात्रियों के लिए आरटी पीसीआर जांच करने वाली निजी प्रयोगशालाएं 4,000 रुपये की बजाय अब 2,700 रुपये लेंगी. उन्होंने कहा कि निजी रेडियोलॉजी केंद्र ‘हाई रेजोल्यूशन’ सीटी स्कैन के लिए 2,500 रुपये से ज्यादा नहीं ले सकेंगे. पटेल ने कहा कि आरटी पीसीआर जांच में इस्तेमाल की जाने वाली किट के दाम घट गए हैं इसलिए जांच की दर घटाने का निर्णय लिया गया है.

(इनपुट: ANI)