Gujarat New CM: गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रूपाणी ने शनिवार को अचानक अपने पद से इस्तीफा दे दिया, उसके बाद गुजरात के नए सीएम के चेहरे को लेकर ऊहापोह की स्थिति चल रही है और अटकलों का बाजार भी गर्म है. इसके लिए लेकिन ज्यादा इंतजार नहीं करना होगा. आज दोपहर तीन बजे तक गुजरात को नया मुख्यमंत्री मिल जाएगा. माना जा रहा है कि अगला मुख्यमंत्री पाटीदार समाज से होगा, हालांकि ये विधायक दल की बैठक में ही स्पष्ट हो पाएगा.Also Read - Gujarat News: गुजरात के मुंद्रा बंदरगाह से 21,000 करोड़ रुपये मूल्य की हेरोइन जब्त

वैसे गुजरात के अगले मुख्यमंत्री के नामों में प्रफुल्ल पटेल, मनसुख भाई मंडविया, पुरुषोत्तम रूपाला, नितिन पटेल पाटीदार चेहरे के रूप में मुख्यमंत्री की रेस में सबसे आगे हैं. जबकि गैर पाटीदार चेहरा प्रदेश अध्यक्ष सीआर पाटिल का है. वे भी मुख्यमंत्री की रेस में आगे बताए जा रहे हैं. Also Read - Haryana Schools Reopen: खुल गए पहली से तीसरी कक्षा तक के स्कूल, सुबह 9 से 12बजे तक चलेंगे क्लास, ये है guidelines

मुख्यमंत्री विजय रुपाणी के इस्तीफे के बाद आज यानी रविवार को विधायक दल की बैठक दोपहर तीन बजे बुलाई गयी है. इस बैठक में विधायक दल के नए नेता का चुनाव होगा जो गुजरात का नया मुख्यमंत्री होगा. पार्टी के केंद्र पर्यवेक्षक के तौर पर रविवार सुबह केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर और प्रहलाद जोशी नए मुख्यमंत्री के चुनाव के लिए अहमदाबाद पहुंच गए हैं. Also Read - Gujarat Cabinet Reshuffle: गुजरात के नए मंत्री गुरुवार को लेंगे शपथ, कई नए चेहरों को मंत्रिमंडल में मिलेगी जगह

नरेंद्र तोमर ने कही ये बात…

गुजरात बीजेपी के केंद्रीय पर्यवेक्षक नरेंद्र सिंह तोमर और पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव तरुण चुग गुजरात बीजेपी अध्यक्ष सीआर पाटिल के आवास पहुंचे. नरेंद्र तोमर ने कहा कि हम यहां गुजरात के अगले मुख्यमंत्री के नाम पर चर्चा करने आए हैं, इसके लिए हम प्रदेश अध्यक्ष और अन्य नेताओं के साथ बातचीत करेंगे और सीएम का नाम तय किया जाएगा.

विजय रुपाणी ने जल्दबाजी में या अचानक अपने पद से इस्तीफा नहीं दिया है. गुजरात में सीएम के बदलाव की पटकथा पिछले साल दिसंबर में लिख दी गयी थी, जब पार्टी संगठन ने विजय रुपाणी के खिलाफ रिपोर्ट दी थी. इसके बाद तय हो गया था कि गुजरात में मुख्यमंत्री बदल दिया जाएगा, विजय रुपाणी को तभी बता दिया गया था कि आपके पांच साल पूरे होने के बाद पार्टी नया मुख्यमंत्री राज्य में देगी.

बता दें कि पिछले महीने 7 अगस्त को रुपाणी के पांच साल पूरे हो गए थे. इसके बाद से ही उनके जल्द इस्तीफे की अटकलें लगाई जा रही थीं. लेकिन उच्च स्तर पर लगातार बातचीत जारी रही और एक बार तो ऐसा लगा कि विजय रुपाणी अपने आप को बचा जाएंगे. लेकिन आखिरकार केंद्रीय नेतृत्व ने दो दिन पहले संगठन महामंत्री बीएल संतोष को गांधीनगर भेजकर इस्तीफे का समय और तारीख तय करवा दी.