Gujarat News: सालंगपुर स्थित हनुमानजी का प्राचीन मंदिर अपनी मान्यता के लिए विश्व प्रसिद्ध है. यहां विराजमान भगवान हनुमानजी को श्रीकष्टभंजन के नाम से जाना जाता है. अब हाल ही धानुर्मास की पूर्णिमा पर यहां देव हनुमानजी को सोने के गहनों से सजाया गया है. भगवान की मूर्ति को 21 किलो सोने और हीरे के गहने पहनाए गए हैं. इन गहनों में 100 से ज्यादा हार, 300 कड़े, हीरों से जड़े आठ मुकुट, 11 जोड़ी चांदी के कुंडल, 500 अंगूठियां, एक किलो चांदी का कमरबंद, पांच सोने से जड़ी रुद्राक्ष की मालाएं शामिल हैं. Also Read - Gujarat News: 63 साल का किसान ढूंढ रहा है 7वीं पत्नी, 21 साल छोटी पत्नी ने लगाया है ये आरोप

पूर्णिमा पर श्रद्धालु बड़ी संख्या में दर्शन के लिए सालंगपुर पहुंच रहे हैं. बता दें, कोरोना के कारण हनुमानजी के ऑनलाइन दर्शन भी किए जा रहे हैं. सालंगपुर मंदिर अपने पौराणिक महत्व, सुंदरता और भव्यता की वजह से काफी मशहूर है. यहां कष्ट भंजन हनुमानजी सोने के सिंहासन पर विराजमान हैं. उन्हें महाराजाधिराज के नाम से भी जाना जाता है. हनुमानजी की प्रतिमा के आसपास वानर सेना दिखाई देती है. हनुमानजी के साथ ही शनिदेव स्त्री रूप में विराजे हैं. वह हनुमानजी के चरणों में बैठे हैं. Also Read - Viral Video: नदी किनारे मगरमच्छ की पीठ पर हाथ फेरते हुए बातें कर रहा था शख्स और फिर...

मंदिर से जुड़ी कथा
सालंगपुर मंदिर को लेकर मान्यता है कि पुराने समय में इलाके में शनिदेव का प्रकोप काफी बढ़ गया था. जिसके कारण लोगों को परेशानियों का सामना करना पड़ा रहा था. शनि से बचाने के लिए भक्तों ने हनुमानजी से प्रार्थना की. तब हनुमानजी ने शनिदेव को दंड देने का निश्चय किया. शनिदेव को ये बात पता चली तो वे डर गए. शनिदेव ये बात जानते थे कि हनुमानजी बाल ब्रह्मचारी हैं और वे स्त्रियों पर हाथ नहीं उठाते. इसलिए शनि ने स्त्री का रूप धारण कर लिया और हनुमानजी के चरणों में गिरकर क्षमा मांगने लगे. हनुमानजी ने शनिदेव को क्षमा कर दिया. माफी मिलने के बाद शनिदेव ने हनुमान से कहा कि उनके भक्तों पर शनि दोष का असर नहीं होगा. इस मंदिर में इसी मान्यता के आधार पर शनिदेव को हनुमानजी के चरणों में स्त्री रूप में पूजा जाता है. भक्तों के कष्ट दूर करने की वजह से इस मंदिर को कष्ट भंजन हनुमान मंदिर के नाम से जाना जाता है. Also Read - ऑनलाइन कक्षाओं से परेशान लड़का घर छोड़कर भागा, चिट्ठी में लिखा- 'ऑनलाइन क्लास में मेरे कुछ नहीं समझ में आता'