अहमदाबाद: गुजरात के सूरत में रहने वाला 14 साल का एक लड़का ऑनलाइन कक्षाओं से इतना तंग आ गया कि घर छोड़ कर मुंबई चला गया. उसने अपने घरवालों के लिये एक चिट्ठी छोड़ी है जिसमें उसने लिखा है कि ऑनलाइन कक्षा में उसे कुछ समझ नहीं आता है और वह परेशान है. पुलिस ने इसकी जानकारी दी.Also Read - Gujarat Lockdown: गुजरात में बढ़ाई गई कोरोना पाबंदियां, शादियों और अन्य कार्यक्रमों में लोगों की संख्या की गईं तय और...

पुलिस ने बताया कि आठवीं कक्षा में पढ़ने वाला छात्र सूरत के रंडेर इलाके में स्थित अपने घर से सोमवार की दोपहर भाग गया . उन्होंने बताया कि वह यहां से 270 किलोमीटर दूर मुंबई के भयंदर इलाके में अपने चाचा के घर जा पहुंचा. Also Read - Sarkari Naukri 2022: गुजरात में 3300 प्राथमिक स्कूल शिक्षकों की भर्ती प्रक्रिया जल्द होगी शुरू

रंडेर पुलिस थाने के निरीक्षक जे पी जडेजा ने बताया, ‘‘जांच के दौरान पुलिस को पता चला कि बच्चा और उसके माता पिता चार साल पहले तक भयंदर इलाके में रहते थे और उसे वहां के अपने दोस्तों की बहुत याद आती थी. सूरत में वह सामान्य महसूस नहीं कर रहा था.’’ Also Read - Makar Sankranti 2022: मकर संक्रांति पर हरिद्वार में गंगा स्नान, गुजरात में पतंगबाजी पर रोक, जानिए गाइडलाइंस

उन्होंने बताया कि लड़का उस समय सूरत स्थित अपना घर छोड़ कर चला गया जब उसके माता पिता कहीं गये हुए थे . जब वह नहीं मिला तो उसके पिता ने पुलिस थाने में गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज कराई.

जडेजा ने कहा कि घर से भागने से पहले किशोर ने एक चिठ्ठी छोड़ी थी जिसमें लिखा था, ‘‘मम्मी और पापा, मैंने आपको बहुत दुख दिया है . लेकिन अब मैं बहुत दूर जा रहा हूं . स्कूल की ऑनलाइन कक्षाओं में जो कुछ पढ़ाया जाता है, वह सब मेरे समझ में नहीं आता. सभी दुखों के लिये मुझे माफ कर दीजिए.’’

कोरोना वायरस महामारी के कारण देश के बाकी कई राज्यों की तरह गुजरात में भी दसवीं एवं 12 वीं कक्षा को छोड़कर सभी कक्षाओं में ऑनलाइन पढ़ाई हो रही है.

जडेजा ने कहा, ‘‘हमने लड़के की तलाश शुरू की . भयंदर में रहने वाले उसके चाचा ने बुधवार को लड़के के पिता को फोन कर बताया कि वह सुरक्षित घर पर पहुंच चुका है. इसकी जानकारी मिलने के बाद बच्चे के माता पिता उससे मिलने के लिये मुंबई रवाना हो गए. पुलिस ने हालांकि, यह नहीं बताया कि बच्चा भयंदर कैसे पहुंचा .