गुरुग्राम: कोरोना वायरस के नए स्वरूप को लेकर एक बार फिर से देश में दहशत सी छाई हुई है. गुरुग्राम के स्वास्थ्य अधिकारियों ने शनिवार को 8 दिसंबर के बाद यूनाइटेड किंगडम (यूके) यानी ब्रिटेन से यहां पहुंचने वाले यात्रियों को कोरोना टेस्ट करवाना अनिवार्य हो गया है. विभाग ने कहा कि अगर कोई इसका उल्लंघन करता है तो उसके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी. अधिकारियों ने यूरोपीय देश में कोरोना के नए प्रकार का पता चलने के बाद यह निर्णय लिया. Also Read - Beating The Retreat Ceremony: 72वें गणतंत्र दिवस पर अटारी बॉर्डर पर दर्शकों की गैरमौजूदगी में हुई बीटिंग र्रिटीट

आधिकारिक बयान में कहा गया है कि स्वास्थ्य विभाग ने सभी ब्रिटेन से लौटने वाले यात्रियों से आवश्यक कोरोनावायरस दिशानिर्देशों का पालन करने और जिले में कोरोनावायरस टेस्ट करनवाने की अपील की. Also Read - Covid-19: देश में कोरोना के 9,102 नए केस, बीते 8 महीनों में सबसे कम मौतें

विभाग ने कहा, “जो लोग कोरोनावायरस टेस्ट करवाने से मना करेंगे उनके खिलाफ आईपीसी की धारा 188 के तहत कार्रवाई की जाएगी. इसके अलावा, लौटे हुए रोगियों को क्वारंटीन प्रोटोकॉल का पालन करना पड़ेगा.” स्वास्थ्य अधिकारियों के अनुसार, हाल ही में ब्रिटेन से लौटे 407 निवासियों में से अब तक 191 लोगों के सैंपल एकत्र किए गए हैं. Also Read - Uttar Pradesh News: बस्ती जेल में 123 कैदी और तीन कर्मचारी कोविड-19 से संक्रमित

सिविल सर्जन वीरेंद्र यादव ने कहा, “हमने गुरुग्राम जिले के सभी अस्पतालों को निर्देश दिया है कि अगर ब्रिटेन से लौटे ऐसे लोग उनके अस्पताल में आए हों , तो उनका संपर्क और विवरण शेयर करें. इसके अलावा, विभाग जल्द ही कोरोना प्रसार को रोकने के कॉन्टेक्ट ट्रेसिंग लॉन्च करेगा.”