केंद्र के तीन कृषि बिलों के खिलाफ दिल्ली की सीमाओं पर जारी प्रदर्शन (Protest Against Farm Bills) में शामिल होने के लिए पश्चिम बंगाल (West Bengal) से राष्ट्रीय राजधानी पहुंची एक महिला एक्टिव संग बलात्कार मामले में नया मोड़ आ गया है. हरियाणा पुलिस (Haryana Police) ने इस मामले की जांच के लिए एक तीन टीमों का गठन किया है. झज्जर जिला स्थित बहादुरगढ़ के डीएसपी पवन कुमार (Bahadurgarh DSP Pawan Kumar) ने आज मंगलवार को ये जानकारी दी. Also Read - HSSC Haryana Police SI Recruitment 2021: हरियाणा पुलिस में सब इंस्पेक्टर के पदों पर कल से आवेदन शुरू, जल्द करें अप्लाई, लाखों में मिलेगी सैलरी 

उन्होंने कहा कि 25 वर्षीय महिला एक्टिविस्ट संग कथित बलात्कार के केस की जांच के लिए तीन टीमों का गठन किया है. इसके अलावा छह आरोपियों के खिलाफ केस दर्ज किया गया है. पुलिस ने सभी आरोपियों और योगेंद्र यादव को नोटिस भेजा है. उन्होंने कहा कि मामले में अभी जांच जारी है. खबर लिखे जाने तक एक अखबार ने बताया कि किसान नेता योगेंद्र यादव (Activist yogendra Yadav) बहादुरगढ़ पहुंच चुके हैं. उनसे पूछताछ की जा रही है और एक घंटे से ज्यादा का समय बीत चुका है. डीएसपी की अगुवाई में पुलिस पूछताछ कर रही है. Also Read - HSSC Haryana Police SI Recruitment 2021: हरियाणा पुलिस में सब इंस्पेक्टर के पदों पर निकली बंपर वैकेंसी, जल्द करें आवेदन, 1.1 लाख तक होगी सैलरी 

मालूम हो कि महिला एक्टिविस्ट किसान आंदोलन में शामिल होने के लिए बंगाल से दिल्ली आ रही थी. इस बीच रास्ते में उसके साथ कथित तौर पर बलात्कार हुआ. 30 अप्रैल को कोविड-19 संक्रमण के संपर्क में आने के बाद उनकी मौत हो गई. 26 वर्षीय पीड़िता को कोविड-19 से निधन से होने से चार दिन पहले शिवम हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया था.

इस संबंध में पीड़िता के पिता ने बहादुरगढ़ पुलिस के समक्ष शिकायत दर्ज कराई. पुलिस ने शिकायत पर संज्ञान लेते हुए चार आरोपियों के खिलाफ केस दर्ज किया. एफआईआर में जिन लोगों के नाम हैं उनके अनूप और अनिल मलिक शामिल हैं जो ‘किसान सोशल आर्मी’ नाम से संगठन चलाते हैं. बता दें कि मृतक महिला एक्टिविस्ट ने आरोपियों के साथ बंगाल से दिल्ली की यात्रा की थी.