Karnal Farmers Protest: करनाल में हजारों किसानों ने पुलिस के बेरिकेड तोड़ते हुए सचिवालय घेर लिया है. पुलिस ने इस दौरान पानी की बौछार का प्रयोग किया, लेकिन फिर भी किसान आगे बढ़ गए. मौके पर बवाल होने की आशंका है. पत्थरबाजी की ख़बरें भी आ रही हैं.Also Read - आंदोलन में जान गंवाने वाले 150 किसानों के परिजनों को नौकरी न दे पाने से दुखी हूं: अमरिंदर सिंह

कृषि कानूनों और कुछ दिन पहले प्रदर्शन के दौरान लाठीचार्ज करने को लेकर प्रदर्शन कर रहे किसानों से आज अधिकारियों ने बैठक भी की थी, लेकिन ये बैठक बेनतीजा रही. इसके बाद किसानों ने सचिवालय घेरने का ऐलान किया और आगे बढ़ने लगे. भारतीय किसान यूनियन राकेश टिकैत और योगेन्द्र यादव भी मार्च में किसानों के साथ थे. Also Read - किसानों के आंदोलन पर केंद्र और राज्य सरकारों को NHRC ने दिया नोटिस, ये है वजह

Also Read - सीएम अमरिंदर की किसानों से अपील, 'पंजाब की जगह दिल्ली या हरियाणा की सीमाओं पर प्रदर्शन करें'

किसान आगे न बढ़ पायें, इसे लेकर भारी मात्रा में पुलिस फोर्स लगाया गया. किसानों का बड़ा हुजूम सड़कों पर था. इससे ट्रैफिक जाम लग गया. कई जगहों पर पुलिस ने किसानों को रोकने की नामकामयाब कोशिश की. किसान जब मिनी सचिवालय के पास पहुंचे तो पुलिस ने पानी की बौछार का इस्तेमाल किया, लेकिन इसके बाद भी किसान सचिवालय की ओर बढ़ गए और सचिवालय घेर लिया है.

ट्रैक्टर पर सवार सैकड़ों-हजारों किसान लाठियां लेकर करनाल के मिनी सचिवालय की ओर बढ़े. किसान महापंचायत के 11 सदस्यीय किसान प्रतिनिधिमंडल ने मिनी सचिवालय में करनाल के उपायुक्त को अपनी मांगों का ज्ञापन सौंपा था. ज्ञापन में किसानों ने 28 अगस्त को प्रदर्शनकारियों पर लाठीचार्ज करने का आदेश देने वाले आईएएस अधिकारी के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की मांग दोहराई थी.

बैठक के बाद योगेंद्र यादव ने कहा, “डीसी और एसपी के साथ हमारी बातचीत तीन दौर में हुई थी. इसमें 15 प्रतिनिधियों ने भाग लिया था. हमने केवल 28 अगस्त को लाठीचार्ज का आदेश देने वाले आईएएस अधिकारी के खिलाफ सख्त कार्रवाई की मांग की थी. हमने कोई मुआवजा नहीं मांगा. हालांकि, अधिकारी इसके लिए भी राजी नहीं हुए.”

प्रतिनिधिमंडल का नेतृत्व राजनीतिक कार्यकर्ता योगेंद्र यादव, किसान विरोध नेता राकेश टिकैत, करनाल स्थित भारतीय किसान यूनियन (बीकेयू) के नेता गुरनाम सिंह चादुनी, बीकेयू अध्यक्ष बलबीर सिंह राजेवाल, बीकेयू (सिद्धूपुर) के प्रदेश अध्यक्ष सदस्य जगजीत सिंह दल्लेवाल, अजय राणा, डॉ. दर्शन पाल के साथ अन्य किसान नेता शामिल हैं.