चंडीगढ़: इनेलो विधायक अभय सिंह चौटाला (Abhay Sigh Chautala) ने विधानसभा की सदस्यता से इस्तीफा देने का ऐलान किया है. हरियाणा के डिप्टी सीएम दुष्यंत सिंह चौटाला (Dushyant Singh Chautala) के चाचा अभय सिंह चौटाला ने कहा कि केंद्र सरकार ने कृषि कानून थोप दिए हैं. यदि 26 जनवरी तक इन कानूनों को वापस नहीं लिया गया तो वह विधायकी छोड़ देंगे. इसके लिए अभय चौटाला ने पत्र भी लिख दिया है.Also Read - BJP सांसद की किरकिरी, किसानों से ताली बजाने को कहा, सुनने को मिला इनकार

हरियाणा विधानसभा (Haryana Assembly) अध्यक्ष को पत्र लिखकर कहा कि अगर केंद्र सरकार तीनों नये कृषि कानूनों को 26 जनवरी तक वापस नहीं लेती तो उनके पत्र को सदन से विधायक के रूप में उनका इस्तीफा समझा जा सकता है. Also Read - Rakesh Tikait ने क्यों कहा- खत्म नहीं हुआ है किसानों का आंदोलन? जानें 26 जनवरी का क्या है 'प्लान'

Also Read - कुछ लोग नमाज को शक्ति प्रदर्शन के लिए इस्तेमाल करते हैं, ऐसा नहीं होना चाहिए : मनोहर लाल खट्टर

हरियाणा के एलेनाबाद से विधायक चौटाला ने विधानसभा अध्यक्ष ज्ञान चंद गुप्ता को लिखे पत्र में आरोप लगाया कि ‘‘किसानों पर काले कानून अलोकतांत्रिक तरीके से थोपे गये हैं’’.उन्होंने कहा कि पूरे देश के किसान इन कानूनों का विरोध कर रहे हैं.

अभय चौटाला ने खत में लिखा कि कड़ाके की सर्दी की वजह से 60 से अधिक किसानों ने ‘शहादत’ दे दी है, लेकिन केंद्र ने उनकी मांगों पर कोई ध्यान नहीं दिया है. इनेलो नेता ने कहा कि सरकार ने जो परिस्थितियां पैदा की हैं उनमें सदन का जिम्मेदार सदस्य होने के नाते वह किसानों के अधिकारों को बचाने के लिए कोई भूमिका नहीं निभा पा रहे.