नई दिल्ली: कोरोना महमारी की शुरुआत के साथ ही हरियाणा सरकार ने बड़ा फैसला लिया था. इसके तहत राज्य सरकार ने राज्य में 1 साल तक के लिए गुटका, पान व तंबाखू के सामानों की बिक्री पर रोक लगा दी थी. राज्य सरकार द्वारा बिक्री पर रोक इसलिए लगाई गई थी ताकि लोग सार्वजनिक जगहों पर न थूके और न ही इससे किसी को दिक्कत हो. पहले तो इसे 1 साल के लिए लागू किया गया था, लेकिन स्थिति को देखते हुए अब इसे 1 और साल तक के लिए बढ़ाने का फैसला लिया गया है. यानी अब सितंबर 2022 तक हरियाणा में पान-गुटखा की बिक्री पर रोक लगा दी गई है.Also Read - हरियाणा सरकार ने अन्य राज्यों से धान खरीद पर लगाई रोक, यूपी के किसानों में फूटा गुस्सा

सोमवार के दिन हरियाणा के खाद्य एवं औषधि विभाग ने पान मसाला, तम्बाकू और गुटखा पर लगी रोक को 1 साल तक के लिए और बढ़ाने का फैसला लिया है. इस आदेश को सभी जिलों के जिलाधिकारियों, पुलिस अधिकारियों को जारी कर दिया गया है. बता दें कि पान गुटखा व तंबाकू प्रोडक्ट्स पर लगाए गए रोक के नियमों का यदि कोई उल्लंघन करता है तो उक्त व्यक्ति पर उचित कानूनी कार्रवाई की जाएगी. हालांकि हरियाणा के कई सामाजिक संगठनों ने राज्य सरकार के इस फैसले का स्वागत किया है. Also Read - हरियाणा के बहादुरगढ़ में तेज रफ्तार कार ने दूसरी कार को मारी टक्कर, 8 लोगों की मौत

बता दें कि कोरोना महामारी के फैलने के बाद कई राज्यों में तंबाकू व गुटखा प्रोडक्ट्स की बिक्री पर रोक लगाई गई थी. हालांकि धीरे धीरे कर वापस इन उत्पादों के बिक्री की अनुमति दे दी गई है. विशेषज्ञों की मानें तो कोरोना संक्रमित शख्स अगर कहीं थूकता है तो इससे मुंह से वायरस भी निकलता है और वह दूसरों को भी संक्रमित कर सकता है. वहीं कोरोना निगेटिव को अगर बलगम आ रहा है तो वह तब भी किसी न किसी बीमारी से संक्रमित है. ऐसे में संक्रमण के मामलों पर नियंत्रण किया जा सके, इस कारण राज्य सरकार द्वारा गुटखा-पान-तंबाकू के प्रोडक्ट्स पर रोक लगाई गई है. Also Read - NRI के अकाउंट से बड़ी रकम उड़ाने की कोशिश, HDFC के तीन बैंककर्मियों समेत 12 लोग अरेस्‍ट