Coronavirus Update: अंतरराष्ट्रीय स्वास्थ्य विशेषज्ञों ने सोमवार को चेताया कि कोविड महामारी जल्द खत्म नहीं होने जा रही और ओमिक्रॉन कोरोना वायरस का आखिरी स्वरूप नहीं होगा. उन्होंने कहा कि बहुत कुछ इस घातक वायरस के अगले स्वरूप के प्रभाव और उसकी संक्रामकता पर निर्भर करेगा. विश्व आर्थिक मंच (WEF) के सप्ताह भर चलने वाले ऑनलाइन दावोस एजेंडा सम्मेलन के पहले दिन कोविड-19 के हालात पर अपने संबोधन में मशहूर अमेरिकी महामारी विज्ञानी एंथोनी फाउची ने कहा कि ‘नये सामान्य’ को लेकर पूर्वानुमान लगाना मुश्किल होगा, हालांकि, उन्हें नहीं लगता कि लोगों को हमेशा मास्क पहनना पड़ेगा.Also Read - देश में Omicron BA.4 की दस्तक, हैदराबाद में मिला पहला केस, वैज्ञानिकों ने कही ये बात

फाउची ने कहा, ‘ओमिक्रॉन बेहद तेजी से फैलता है, लेकिन ये बहुत ज्यादा रोगजनक नहीं है. जबकि, मुझे उम्मीद है कि अभी हालात ऐसे ही रहेंगे, हालांकि, बहुत कुछ आने वाले समय में उभरने वाले वायरस के नए स्वरूपों पर निर्भर करेगा.’ उन्होंने कहा कि महामारी को लेकर कई तरह की ‘भ्रामक सूचनाएं’ हैं लेकिन यह कहना मुश्किल है कि महामारी कब तक जारी रहेगी? Also Read - Monkeypox Disease: यौन संबंध बनाने से भी फैल सकता है 'मंकीपॉक्स' वायरस, विशेषज्ञों ने चेताया

फाउची ने कहा, ‘यह अंदाजा लगाना काफी मुश्किल है कि ‘नया सामान्य’ कैसा होगा? मुझे नहीं लगता कि लोगों को हमेशा मास्क पहनना पड़ेगा. हालांकि, मैं उम्मीद करूंगा कि ‘नया सामान्य’ एक-दूसरे के साथ और अधिक एकजुटता से होगा. मैं यह भी उम्मीद करता हूं कि हालात सामान्य होने पर यह भी हमारी यादों में रहेगा कि एक महामारी हम पर क्या प्रभाव डाल सकती है.’ Also Read - युवा शिविर में बोले पीएम मोदी, भारत आज दुनिया की नई उम्मीद बनकर उभरा है

दवा कंपनी मॉडर्ना की सीईओ स्टीफन बी. के अलावा ‘कोअलिशन फॉर एपिडेमिक प्रीपेयर्डनेस’ (सीईपीआई) के सीईओ रिचर्ड हैचेट और लंदन की संक्रामक रोग विशेषज्ञ एनेलाइस वाइल्डर स्मिथ ने भी सत्र को संबोधित किया. स्मिथ ने कहा कि ओमिक्रॉन वायरस का आखिरी स्वरूप नहीं होगा और महामारी जल्द ही समाप्त नहीं होने जा रही.

(इनपुट: भाषा)