लंदन: वायु प्रदूषण से आप-हम परेशान हैं. धूल भरी आंधी चलने पर ये और बुरा हो जाता है. पर क्या आप जानते हैं कि इस प्रदूषण से पेड़ों पर भी असर होता है. एक नए शोध में ये बात सामने आई है. Also Read - Air Pollution: बच्चों को सबसे ज्यादा खतरा, 1.16 लाख से ज्यादा शिशुओं की हो चुकी मौत

शोध में कहा गया है कि मानव स्वास्थ्य पर असर डालने के अलावा वायु प्रदूषण पेड़ों को भी कुपोषित कर रहा है. वायु प्रदूषण से एक कवक (फंजाई) को नुकसान पहुंच रहा है, जो पेड़ की जड़ों को खनिज पोषक तत्व प्रदान करने के लिए महत्वपूर्ण है. Also Read - Delhi-NCR निवासी सावधान: प्रदूषण के स्तर में दिखने लगी तेजी, नोएडा की हालत ज्यादा खराब

गौरतलब है कि माइकोराइजा कवक, पेड़ों की जड़ों में पाया जाता है. ये मिट्टी से पोषक पदार्थ प्राप्त करता है. ये कवक पेड़ से कार्बन के बदले उसे मिट्टी से जरूरी पोषक तत्व जैसे नाइट्रोजन, फॉस्फोरस और पोटेशियम देते हैं. Also Read - त्यौहारों से पहले ही खराब हुई राष्ट्रीय राजधानी में हवा की गुणवत्ता, इन इलाकों की स्थिति बेहद गंभीर

Air Pollution

यह पौधे व कवक का सहजीवी संबंध पेड़ के स्वास्थ्य के लिए महत्वपूर्ण है. शोध में पता चला है कि नाइट्रोजन व फॉस्फोरस जैसे पोषक तत्वों के उच्च स्तर को माइकोराइजा पोषक पदार्थ के बजाय प्रदूषक में बदल देता है. कुपोषण का संकेत पत्तियों के पीले होने या पत्तियों के ज्यादा गिरने के रूप में देखा जा सकता है.

लंदन के इंपीरियल कॉलेज में शोध के प्रमुख मार्टिन बिडराटोनडो ने कहा, ‘पूरे यूरोप में पेड़ के कुपोषण की यह प्रवृत्ति खतरनाक चेतावनी दे रही है, जो वनों को कीटों, बीमारियों व जलवायु परिवर्तन के लिए असुरक्षित बना रही है’.

उन्होंने कहा, ‘मिट्टी और जड़ों में होने वाली प्रक्रियाओं को अक्सर अनदेखा किया जाता है. चूंकि मान लिया जाता है क्योंकि इसका सीधे तौर पर अध्ययन मुश्किल है. लेकिन पेड़ की क्रियाविधि के आंकलन के लिए यह महत्वपूर्ण है’.
(एजेंसी से इनपुट)