टोरंटो: शोधकर्ताओं ने पीठ के दर्द और काम करने में असमर्थता के संबंध में मरीज के लक्षणों का लंबे समय तक अध्ययन किया है और पता लगाया है कि दर्द कितने तरह के होते हैं. इस दौरान उन्होंने विभिन्न लक्षणों के संबंध में दवाइयों (नशीली दवाइयों सहित) और स्वास्थ्य देखभाल के प्रभाव की पहचान की. Also Read - Tight Pant पहनते हैं तो हो जाएं Alert, कभी नहीं बन पाएंगे पिता!

Also Read - Covid 19: वैज्ञानिकों ने की कोरोनावायरस के हल्के लक्षण वाले सात अलग-अलग स्वरूपों की पहचान

Health Alert: जानें क्या है ‘विंटर ब्लू’, सर्दियों में क्यों बढ़ते हैं लोगों में Depression के लक्षण Also Read - Alert: कोविड-19 रोगियों में किडनी खराब होने का जोखिम बढ़ा

दुनिया में लोगों को सबसे ज्यादा बार होने वाली बीमारी पीठ का दर्द है. कनाडा के टोरंटो स्थित अध्ययन के लिए यूनिवर्सिटी हेल्थ नेटवर्क के क्रेंबिल रिसर्च इंस्टीट्यूट के शोधकर्ताओं ने 16 वर्षो तक 12,782 लोगों को शामिल किया. यह निष्कर्ष बीमारी के साथ होने वाली सह-बीमारी, दर्द, असमर्थता, अफीम से बनी दवाई या अन्य दवाई के उपयोग और हेल्थकेयर विजिट के कारकों से प्राप्त हुआ. प्राप्त परिणामों के अनुसार, लगभग आधे (45.6 फीसदी) लोगों ने कम से कम एक बार पीठ में दर्द की शिकायत की.

Health Tips: ठंड के मौसम में इन उपायों को अपनाकर रहें स्वस्थ

दर्द के चार समूह बनाए

अध्ययन में दर्द के चार समूह बनाए गए- परसिस्टेंट (18 फीसदी), डेवलपिंग (28.1 फीसदी), रिकवरी (20.5 फीसदी) और अकेजनल (33.4 फीसदी). आथ्र्राइटिस केयर एंड रिसर्च में प्रकाशित इस अध्ययन के अनुसार, परसिस्टेंट और डेवलपिंग प्रकार के दर्द से पीड़ित लोगों को रिकवरी और अकेजनल प्रकार के दर्द से पीड़ित लोगों से ज्यादा दर्द और असमर्थता होती है तथा वे ज्यादा हेल्थकेयर विजिट और दवाइयों का उपयोग करते हैं.

Tips: सर्दियों में जरूर खाएं मेथी, होंगे ये 10 फायदे

लाइफस्टाइल की और खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें.