नई दिल्‍ली: अगर आप जानवरों के बच्‍चों की तस्‍वीरें देखेंगे तो आपका नॉन वेज खाने का मन नहीं करेगा. ऐसा एक नए शोध में पता चला है. Also Read - Food Habits During Season Change: बदलते हुए मौसम में इम्युनिटी बढ़ाने के लिए ना करें ये गलतियां, इन डाइट मिस्टेक से रहें दूर

Also Read - एएमयू के छात्रों का आरोप- मांसाहारी खाने के तेल से बनता है शाकाहारी भोजन, यूनिवर्सिटी ने दिया ये जवाब

शोध में बताया गया है कि पशुओं के बच्चों की तस्वीरें देखने से लोगों की मांसाहार खाने की इच्छा कम होती है. अध्ययन में पाया गया है कि पुरुषों के मुकाबले महिलाओं पर ऐसी तस्वीरों का असर ज्यादा होता है. Also Read - भारतीय शाकाहारी भोजन में 84, मांसाहारी में 65 प्रतिशत प्रोटीन की कमी

कहीं आपकी थाली में भी तो नहीं प्‍लास्टिक वाला चावल? ऐसे करें घर बैठे जांच…

tandoori-chicken-source-foodopia

पशु अधिकार समूह अक्सर मेमनों और बछड़ों की तस्वीरों का इस्तेमाल करते हैं लेकिन इस बात के ज्यादा सबूत नहीं थे कि उनके अभियान पर इनका क्या असर पड़ता है.

ब्रिटेन में लंकास्टर विश्वविद्यालय और यूनिवर्सिटी कॉलेज लंदन के मनोचिकित्सकों ने महिलाओं तथा पुरुषों को बछड़ों, कंगारूओं के बच्चों, सूअर के बच्चों और मेमनों की तस्वीरें दिखाईं. फिर जांच की कि क्या इससे मांस खाने की उनकी इच्छा पर कोई असर पड़ा. शोधकर्ताओं ने कहा, ‘हमने पाया कि पुरुषों और महिलाओं दोनों को पशुओं के बच्चे बहुत प्यारे लगे और उनमें बच्चों के प्रति स्नेह का भाव आया.’

हालांकि पुरुषों और महिलाओं में ये सकारात्मक भावनाएं अलग-अलग तरह से सामने आईं. महिलाओं के मुकाबले पुरुषों की मांसाहार खाने की इच्छा पर कम असर पड़ा.

लंकास्टर विश्वविद्यालय की जारेड पियाजा ने बताया कि ऐसा इसलिए हो सकता है कि आज भी महिलाओं की भूमिका देखरेख करने वाली की होती है. उन्होंने बताया कि शोध में महिलाओं का बच्चों के प्रति भावनात्मक लगाव ज्यादा पाया गया और उनमें पशुओं के बच्चों के प्रति सहानुभूति पैदा होते देखा गया.

(एजेंसी से इनपुट)

हेल्थ की और खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें.