यह सीजन ठंड का है, जिसमें हार्ट से संबंधित बीमारियों के बढ़ने का खतरा अधिक होता है. भारत में लगभग 17.8 फीसदी मौतें हृदय से संबंधित बीमारियों के चलते होती हैं, जिसमें करीब 7.1 फीसदी मौतें हार्ट स्‍ट्रोक से होती हैं. अमेरिका जैसे समृद्ध देश में हार्ट डिसीज नंबर 1 किलर बनी हैं. ऐसे में हार्ट से संबंधित बीमारियों और हार्ट अटैक और कॉर्डियक अरेस्‍ट से बचने के लिए बेहतर उपाय क्‍या हो सकते हैं. इसके जवाब में अमेरिका समेत कई देशों के डॉक्‍टरों ने मेडिटेशन यानि ध्‍यान की तकनीक को बेहतर विकल्‍प बताया है.

अमेरिकन हार्ट एसोसिएशन जर्नल सर्कुलेशन में प्रकाशित एक रिसर्च पेपर ‘ध्यान और हृदय के लिए खतरे’ के मुताबिक, मेडिटेशन पर हुए शोध में सामने आए आंकड़ों के आधार पर यह कहा जा सकता है कि मेडिटेशन एक सुरक्षित और कम लागत वाला अभ्यास है, जो हृदय रोगों के लिए बेहद उपयोगी है.

रिसर्च में आए आंकड़ों के आधार पर हृदय रोग विशेषज्ञ इस बात पर सहमत हुए कि मेडिटेशन हार्ट को हेल्‍दी रख सकता है और हार्ट डिसीज के खतरे को कम करने में कारगर है.

रिसर्च में सामने आया
– मेडिटेशन लो ब्‍लडप्रेशर और हाई ब्‍लडप्रेशर को नियंत्रित करने में मदद कर सकता है
– मेडिटेशन करने से हृदय की धमनियों में रक्‍त प्रवाह में आसानी होता है
– मेडिटेशन के अभ्‍यास से हार्ट को गहन आराम मिलता है
– मेडिटेशन तनाव और चिंता को कम करने में मदद करता है
– तनाव, चिंता कम होने से हृदय गति और ब्‍लडप्रेशर कम हो सकता है
– रिसर्च इस बात की भी पुष्टि करता है कि जो लोग मेडिटेशन की प्रैक्‍ट‍िस करते हैं, उन्‍हें हार्ट स्‍ट्रोक या मौत का खतरा कम होता
है

मेडिटेशन ऐसे मदद करता है
– मेडिटेशन तनाव और चिंता की भावना को कम करने में भी मदद करता है
– मेडिटेशन सिर्फ मानसिक ही नहीं शारीरिक गतिविधियों को प्रभावित करता है
– मेडिटेशन से ब्रेन की गतिविधि में परिवर्तन आता है
– मेडिटेशन हार्ट रेट, ब्‍लड प्रेशर, ब्रेथ रेट और ऑक्‍सीजन की खपत को कम करता है
– मेडिटेशन की प्रैक्‍ट‍िस से तनाव के लिए जिम्‍मेदार हार्मोन कार्टिसोल के स्‍तर में कमी आती है
– ध्‍यान के अभ्‍यास से एड्रेनालाइन को संतुलित रखने में मदद मिलती है
– एड्रेनालाइन का मुख्‍य काम हार्ट रेट को बढ़ाना, ब्‍लडप्रेशर को बढ़ाना और फेफड़ों में हवा का रास्‍ता बनाना है. मांसपेशियों को ब्‍लड
का बंटवारा करना और बॉडी के मेटाबोलिज्‍म को अलर्ट करना है. एड्रेनालाइन ब्‍लड ग्‍लूकोज का स्‍तर अधिकतम बनाए रखता है खासतौर से ब्रेन में

इन बातों पर भी रखें खास ध्‍यान
– दिल का दौरा और स्ट्रोक रोकने के लिए दवाओं से अधिक प्रभावी मेडिटेशन, व्‍यायाम और आहार है
– हार्वर्ड मेडिकल स्कूल के प्रोफेसर व कार्डियोलॉजिस्ट डॉ. दीपक भट्ट के मुताबिक, मेडिटेशन हार्ट के खतरे कम करने का एक उपयोगी हिस्‍सा हो सकता है

यह अंतर भी जरूर हमेशा याद रखें
– हार्ट अटैक: दिल का दौरा यानि हार्ट अटैक तब होता है, जब कोरोनरी ध‍मनी ब्‍लॉक हो जाती है. जब हृदय की मांसपेशी को जीवंत रखने वाली रक्‍त की आपूर्ति नहीं होती है और यदि इसका इलाज नहीं किया गया तो यह मरना शुरू कर देती है, क्‍योंकि इसे पर्याप्‍त ऑक्‍सीजन नहीं मिल पाती है.

– कॉर्डियक अरेस्‍ट: कॉर्डियक अरेस्‍ट: कॉर्डियक अरेस्‍ट की स्थिति तब होती है, जब व्‍यक्ति का हार्ट बॉडी में ब्‍लड पंप करना बंद कर देता है और इसमें सामान्‍यतौर पर सांस लेना बंद हो जाता है.