नई दिल्‍ली: ब्रेस्‍ट कैंसर के मरीजों के लिए अच्‍छी खबर है. एक स्‍टडी में ये बात सामने आई है कि बेस्‍ट कैंसर के शुरुआती स्‍टेज में कीमोथेरेपी कराने की जरूरत नहीं है.

ये स्‍टडी की है न्‍यूयॉर्क के मोंटेफियोर मेडिकल सेंटर ने. ये बेस्‍ट कैंसर पर की गई अब तक की सबसे बड़ी स्‍टडी है. इसके नतीजों में कहा गया है कि ब्रेस्‍ट कैंसर के शुरुआती लक्षणों की पहचान हो जाए तो कीमोथेरेपी से बचा जा सकता है.

ek_breast-cancer-tasteforlife-com

स्‍टडी के प्रमुख डॉक्‍टर जोसफ स्‍पेरेनो ने कहा, ‘हमने पाया कि इस स्थिति में पहुंच चुकी महिलाओं को ट्रीटमेंट शुरू करने की बजाय थेरेपी से काफी फायदा पहुंच सकता है.’
इस स्‍टडी को नेशनल कैंसर इंस्‍टीट्यूट ने फंड किया था. शोध के परिणामों की अमेरिकन सोसायटी ऑफ क्लिनकल ऑन्‍कोलॉजी कांफ्रेंस में चर्चा की गई. रिपोर्ट को न्‍यू इंग्‍लंड जर्नल ऑफ मेडिसिन में प्रकाशित किया गया है.

दूध पीने में आनाकानी करता है बच्‍चा, ये 5 ट्रिक्‍स अपनाकर तो देखें…

शोध में ये पता चला कि कैंसर के शुरुआती लक्षणों वाली जिन महिलाओं ने कीमोथेरेपी ली, और जिन्‍होंने बिना कीमो के ही इलाज कराया, नौ साल के बाद दोनों ग्रुप की महिलाएं जीवित थीं. इनमें से 84 फीसदी में फिर कैंसर के लक्षण नहीं उभरे थे. इससे ये साफ हुआ कि शुरुआती लक्षणों के बाद इलाज शुरू करने पर कीमो कराने या ना कराने का कोई विशेष प्रभाव नहीं दिखा.

लाइफस्‍टाइल की और खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें.