बोस्टन: वैज्ञानिकों के मुताबिक गर्भावस्था के दौरान डिब्बाबंद खाना खाने से शिशु के औद्योगिक रसायन बाईस्फेनोल ए (बीपीए) के संपर्क में आने का खतरा रहता है और आशंका रहती है कि बाद के जीवन में यह उनके प्रजनन संबंधी स्वास्थ्य को प्रभावित हो जाए. Also Read - Pregnancy Food Craving: प्रेगनेंसी के दौरान जानें क्यों होती है फूड क्रेविंग? इससे बचने के लिए अपनाएं ये टिप्स

Also Read - Yeh Rishta Kya Kehlata Hai: नायरा के बेबी बंप पर कार्तिक को आया प्यार, हर तस्वीर प्यार की दास्तां कहती है

गर्भावस्था के दौरान हल्‍के में न लें पेट का दर्द, हो सकती हैं 7 परेशानियां, बरतें ये सावधानी Also Read - अनुष्का शर्मा ने किया बेबी बंप फ्लांट, प्रेग्नेंट करीना ने भी किया दिल छू देने वाला कमेंट

पहले के अध्ययनों में यह बात सामने आयी थी कि प्रसवपूर्व बीपीए के संपर्क आने के कारण स्वास्थ्य पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ता है. लेकिन इस बात के बहुत कम साक्ष्य मिले थे कि इससे गर्भाशय की कार्यप्रणाली पर असर पड़ता है. अमेरिका में बोस्टन विश्वविद्यालय से अनुसंधानकर्ताओं ने पाया कि ऐसे पर्याप्त आंकड़े हैं जो बीपीए के संपर्क में आने और गर्भाशय की कार्यप्रणाली पर असर से संबंधित चिंताओं को उजागर करते हैं. भूजल और गाद में बीपीए का पता लगाया जा सकता है. बीपीए का कई औद्योगिक सामग्री एवं डिब्बाबंद खाना तैयार करने में इस्तेमाल किया जाता है.

Alert: बढ़ रहा है वजन पर महसूस होती है कमजोरी! तो हो सकती है ये बीमारी…

मानव अंडाणु विकारों से संबंधित कारणों के बारे में और अध्ययन की जरूरत

बोस्टन विश्वविद्यालय में सहायक प्रध्यापिका और लेखिका श्रुति महालिंगैया ने कहा कि प्रसवपूर्व की वह अवधि जब गर्भ में पल रहे शिशु के विकास के लिये अहम समय होता है, उस दौरान हमें इनके संपर्क में आने से होने वाले असर के कई साक्ष्य मिले हैं. उन्होंने कहा कि मानव अंडाणु विकारों से संबंधित कारणों के बारे में और अध्ययन की जरूरत है.

प्रेगनेंसी के दौरान न करें ये काम वरना Newborn Baby के कटे हो सकते हैं होंठ